सूखा घोषित होय

downloadचित्रकूट जिला मा या बरस बारिश न होय के कारन किसान परेशान हवैं। या कारन सरकार से सूखा घोषिस करैं के मांग करत हवैं। यहिके खातिर 30 अगस्त 2014 का ए.डी.एम संतोष कुमार का लिखित दीन गे।
ए.डी.एम. संतोष कुमार का कहब हवै कि 1 सितम्बर 2014 का सरकार के पास लिखित भेज दीन गे हवै। सरकार जउन करी वहै होइ।
ब्लाक रामनगर, गांव पिपरौंद। हिंया के मीरा, विभा, मिथुनिया अउर मैकी कहिन कि धान, अरहर, उरद, मूंग अउर बाजरा के खेती करित हन। या बरस खेती सूख गे हवै। पिछले बरस चना अउर मसूर के खेती बेमौसम बारिश के कारन खराब होइगे रहै। ब्लाक मऊ, गांव बोझ, मजरा अरवारी के रहैं वाले दीपक अउर हरिओम कहिन कि हम ढाई बिगहा जमीन मा धान के खेती करित हन, पै पानी न बरसैं के कारन धान के खेती सूख गे हवै। ब्लाक मानिकपुर, गांव डोड़ामाफी। हिंया के पांच किसानन का कहब हवै कि हमेशा परेशान रहित हन। कत्तौ सूखा तौ कत्तौ बेमौसम बारिश या फेर पाला परै से, पै सरकार किसानन के समस्या का खतम करैं मा नाकाम होत हवै।
जिला कृषि अधिकारी अरविन्द कुमार जैन कहिन-“सूखा घोषित करैं खातिर ए.डी.एम. के लगे लिखित दरखास 30 अगस्त 2014 का भेज दीन गे हवै।” चित्रकूट जिला के साथै बांदा, महोबा, फैजाबाद जिला समेत 44 जिला के मड़ई सूखा घोषित करावैं के मांग सरकार से करत हवैं। या समस्या राज्य स्तर तक पहुंच गे हवै।