सीबीआई ने विशेष टीम से साँझा की गौरी और दाभोलकर हत्या की जानकारी

फोटो साभार: फेसबुक/गौरी

कर्नाटक पुलिस की विशेष जांच टीम (एसआईटी) ने पत्रकार और कार्यकर्ता गौरी लंकाशे की हत्या की जांच कर रही है, जिसके चलते टीम ने मुंबई में सीबीआई कार्यालय का दौरा किया है और पुणे स्थित बुद्धिवादी नरेन्द्र दाभोलकर की हत्या में जांच से संबंधित दस्तावेज जमा किए हैं।
टीम के अनुसार, दाभोलकर को पुणे में सुबह घर लौटते हुए अगस्त 2013 में गोली मार दी गई थी। लंकेश को बेंगलुरु में 5 सितंबर की शाम को काम से वापस अपने घर लौटते समय गोलीबारी कर मारा गया था। इस संबंध में सीबीआई ने वीरेन्द्र तावडे को 2016 में, गिरफ्तार किया था, जिसे हिंदू जनजागृती समिति के पश्चिमी कमांडर बताया जाता है।
सीबीआई ने दावा किया कि दाभोलकर की सनातन संस्था के सदस्यों ने हत्या कर दी थी क्योंकि उन्हें संगठन के साथ वैचारिक मतभेद थे। टीम ने सारंग अकोलकर और विनय पवार  को मामले में आरोपी के रूप में दिखाया है।
सीबीआई और महाराष्ट्र एसआईटी ने आरोपियों पर अलगअलग नकद पुरस्कार घोषित किये हैं।
सूत्रों के अनुसार, सीबीआई ने गुजरात और बेंगलूर फॉरेंसिक साइंस लैब्स (एफएसएल) की मांग की है, जो कर्नाटक पुलिस को तीन तर्कसंगत व्यक्तियों की हत्या में इस्तेमाल किए गए हथियारों में समानता का विवरण देते हैं।
सूत्रों ने बताया कि फॉरेंसिक रिपोर्ट के अलावा, सीबीआई ने सीसीटीवी कैमरे से कुछ सबूत भी लिए हैं और बाइक पर सवार कुछ आरोपियों की तस्वीरें भी ली हैं।