सिर्फ नाम कै योजना

chatrakoot rashan kard copyजिला फैजाबाद, ब्लाक मया ग्रामसभा कांजीपुर माइना। हिंआ रहै वाली लगभग बाइस साल कै ललिता जवन कि हाथ पैर दुइनौ से विकलांग हइन। लकिन आज तक उनका कउनौ सुविधा नाय मिली।
ललिता कै कहब बाय कि हमरे सब मांझा कै रहै वाली हई। बरसात के दिन मा चारौ तरफ से पानी भर जाथै। जहां से निकरब मुश्किल होय जाथै। अउर हम जैसेन अपाहिज कै कैसन हालत रहाथै। न घर न शौचालय कउनौ सुविधा नाय मिली। हमरेव सबके मनमा अभिलाषा रहाथै कि सिलाई कढ़ाई पेटिंग जैसेन हुनर सीखै का मिलै तौ केहू केऊपरनिर्भर न रहै का परत। ललिता कै कहब बाय कि गांव मा बैठे बैठे चलिके कक्षा नौ तक पढ़ाई करेन। अउर आगे पढ़ाई के ताई सुविधा नाय मिल पाय। प्रधान से भी शौचालय विकलांग साइकिल अउर पेंशन कै मांग करेन लकिन नाय मिला। छहहीना पहिले सिर्फ पेंशन मिला।
वर्तमान प्रधान फुलवारी देवी कहिन कि शपथ ग्रहण करै के बाद पूरी कोशिश करब। ज्यादा से ज्यादा सुविधा मिल सकै।