सालों बाद सौरव ने किया ट्रेन का सफर लेकिन बीच बहस से यात्रा हुई दुश्वार

साभारः विकीपीडिया

सौरव गांगुली लगभग 16 साल बाद ट्रेन का सफर कर रहे थे लेकिन सौरव जिस ट्रेन में बैठे, उसमें उनकी एक व्यक्ति से तीखी बहस हो गई

पूर्व भारतीय कप्तान सौरव गांगुली ने 15 जुलाई को कोलकाता के पास अपनी एक कांस्य की मूर्ति का अनावरण किया इस दौरान सौरव गांगुली ने कोलकाता से मालदा तक ट्रेन से सफर किया, लेकिन ये सफर गांगुली के लिए अच्छा नहीं रहा

दरअसल, गांगुली को उत्तर बंगाल के बालुरघाट में मूर्ति का अनावरण करना था इस दौरान वह पदातिक एक्सप्रेस से एसी फर्स्ट क्लास से वहां जाने लगे लेकिन जब गांगुली अपनी सीट पर पहुंचे तो एक व्यक्ति वहां पर पहले से ही बैठा था इस दौरान गांगुली के साथ बंगाल क्रिकेट संघ के संयुक्त सचिन अभिषेक डालमिया भी थे

मीडिया सूत्रों के अनुसार, गांगुली ने जब उस व्यक्ति से सीट से हटने को कहा तो वह व्यक्ति नहीं उठा और बहस करने लगा जिसके बाद सौरव ट्रेन से ही उतर गए, वहां पर भीड़ भी जमा हो गई लेकिन बाद में सौरव को एसी-2 की एक सीट दी गई दरअसल यह गड़बड़ी तकनीकी कारणों की वजह से हुई थी

बता दें कि सौरव गांगुली अभी बंगाल क्रिकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष हैं, और बीसीसीआई की क्रिकेट सलाहकार समिति के सदस्य भी हैं