सहारनपुर हिंसा बरक़रार, सरकार ने बंद किये फ़ोन और इंटरनेट

साभार: विकिमीडिया कॉमन्स

यूपी के सहारनपुर में 23 मई को हुए बवाल के बाद तनाव की स्थिति बनी हुई है। प्रशासन ने पूरे शहर में अलर्ट जारी कर सुरक्षा के इंतजाम कर दिए हैं। हालात को देखते हुए यहां धारा 144 लागू कर दी गई है। प्रशासन ने मोबाइल और इंटरनेट पर रोक लगा दी है।

मामले के खिलाफ कई लोगों पर एफआईआर दर्ज हो गई है और 24 लोगों को गिरफ्तार भी किया गया है। योगी सरकार ने इस हिंसा को गंभीरता से लेते हुए डीएम और एसएसपी को हटा दिया है। जबकि मंडलायुक्त और पुलिस उप महानिरीक्षक के तबादले कर दिए गए हैं।

सूत्रों के अनुसार, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सहारनपुर के हालात को नियंत्रित नहीं कर पाने को लेकर नाराजगी जतायी, जिसके बाद उक्त अधिकारियों को हटाया गया।

प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश की जनता से भड़काऊ बयानों पर ध्यान न देने की अपील की। मुख्यमंत्री ने कहा कि कतिपय तत्व प्रदेश के हित में राज्य सरकार द्वारा किये जा रहे प्रयासों को पचा नहीं पा रहे हैं। ऐसे लोग प्रदेश में कायम अमन-चैन के माहौल को खराब करने का प्रयास कर रहे हैं। जनता के सहयोग एवं समर्थन से राज्य सरकार ऐसे तत्वों के मंसूबों को सफल नहीं होने देगी।

गौरतलब है कि सहारनपुर के शब्बीरपुर गांव में गत पांच मई को दो वर्गो के बीच हिंसा हुई थी। शब्बीरपुर में एक बार फिर जातीय संघर्ष हुआ, जिसमें आशीष नामक युवक की मौत हो गयी तथा कई अन्य घायल हो गये।उल्लेखनीय है कि मायावती ने सहारनपुर हिंसा के लिए भाजपा के नेतृत्व वाली उत्तर प्रदेश सरकार को जिम्मेदार ठहराया है।