सवर्णों द्वारा किये गये भारत बंद में हुए हिंसात्मक प्रदर्शन

साभार: यूट्यूब

सोशल मीडिया के जरिये विभिन्न संगठनों द्वारा बुलाए गए भारत बंद का असर देशभर में देखने को मिला। मध्यप्रदेश के भिंड और मुरैना में प्रदर्शनकारियों के विरोध की वजह से कर्फ्यू लगा दिया गया है। वहीं बिहार के आरा में प्रदर्शनकारियों ने ट्रेन रोक दी गई।
चौतरफा विरोध को देखते हुए केंद्र सरकार ने राज्यों को सतर्क कर दिया है। गृह मंत्रालय ने राज्यों में बंद के दौरान सुरक्षा कड़ी करने और हिंसा रोकने के निर्देश दिए हैं।
बता दें कि एससीएसटी एक्ट के प्रावधानों में बदलाव के विरोध में हुए भारत बंद के दौरान बड़े पैमाने पर हिंसा और तोड़फोड़ हुई थी। अब आरक्षण के विरोध में कई संगठनों ने भारत बंद का आह्वान किया है।
इस दौरान बिहार के गया जिले में आरक्षण के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे प्रदर्शनकारियों ने पुलिस पर पत्थरबाजी की। जिसके बाद कुछ अराजक तत्वों को हिरासत में लिया गया है।
पंजाब के फिरोजपुर में एससी/एसटी और जनरल के दो गुट आपस में भिड़ गए। इनमें झगड़ा होने पर दो दर्जन के करीब लोग घायल हो गए, जिन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है।
जयपुर समेत छह जिलों में भारत बंद के आह्वान को देखते हुए इंटरनेट सेवाएं चौबीस घंटे के लिए स्थगित कर दी हैं और धारा 144 लागू कर दी गई है।
भारतबंद के दौरान हुए हंगामे में बिहार के आरा में 6-7 पुलिसवाले घायल हुए हैं। बिहार के आरा में गोलीबारी की खबर, हिंसा को देखते हुए धारा-144 लागू की गई।
गौरतलब है कि किसी बड़े संगठन या दल ने भारत बंद की घोषणा नहीं की है, ऐसे में सोशल मीडिया के जरिये छोटेछोटे संगठनों द्वारा शरारत किए जाने की भी संभावना व्यक्त की जा रही है। अब आरक्षण के विरोध में कई अचर्चित संगठनों ने भी भारत बंद का आह्वान किया है। इसके लिए भी सोशल मीडिया की मदद ली जा रही है।
बीते 2 अप्रैल को एससी/एसटी एक्ट में संशोधन के खिलाफ भारत बंद के दौरान देशभर में हिंसा हुई थी करीब 12 लोगों को जान तक गंवानी पड़ी थी।