सर्वेक्षण: जोधपुर देश का सबसे स्वच्छ रेलवे स्टेशन

साभार: विकिपीडिया

रेल मंत्री पीयूष गोयल द्वारा स्टेशनों की सफाई रैंकिंग सर्वे 13 अगस्त 2018 को जारी किया गया है। स्वच्छता अभियान में ए-1 और ए श्रेणी के 407 स्टेशनों के अलावा 600 और स्टेशन शामिल किए गये हैं। यह वार्षिक सर्वेक्षण अब प्रत्येक छह माह में किया जायेगा।

इस वर्ष रेलवे स्टेशन सफाई सूचकांक में राजस्थान के जोधपुर और जयपुर ने सर्वोच्च स्थान हासिल किया है। रेलवे ने तीसरे पक्ष के रूप में क्वालिटी काउंसिल ऑफ इंडिया से स्टेशनों की सफाई की रैंकिंग का सर्वे कराया है।

रेल मंत्रालय ने 407 रेलवे स्टेशनों की सफाई का सर्वे कराया है। इनमें  75 स्टेशन ए1 श्रेणी में, जबकि शेष स्टेशन ए, बी श्रेणी में रखे गए हैं। ए1 श्रेणी में 50 करोड़ से अधिक का व्यवसाय करने वाले स्टेशनों को शामिल किया गया है। इस सर्वेक्षण के दौरान वेटिंग एरिया, प्लेटफॉर्म, ट्रेन, टॉयलेट, पार्किंग और उनके बाहर के क्षेत्र में स्वच्छता का आंकलन किया जाता है।

रेल मंत्री ने सर्वेक्षण रिपोर्ट के आंकड़े जारी करते समय बताया कि रेलवे स्टेशनों की स्वच्छता रैंकिंग में औसतन 18 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है।

वर्ष 2018 के सर्वे में 90 फीसदी से अधिक अंक हासिल करने वाले स्टेशनों की संख्या 39 रही है, जबकि 2017 में यह आंकड़ा शून्य था। वहीं, 80 फीसदी से अधिक अंक पाने वाले स्टेशनों की संख्या 90 से बढ़कर 161 हो गई है। इस प्रकार बेहतर रैंकिंग पाने के लिए रेलवे स्टेशन पहले से अधिक साफ-सफाई रखने लगे हैं।