सरकार की योजना फेल, ललितपुर जिले में टी.बी. के नए मरीज़

भारत सरकार के आंकड़ो के अनुसार 2016 में उत्तर प्रदेश में दो लाख सोलह हजार इकतालिस  टी.बी. के नये मरीज थे। ललितपुर जिला के सीतापुर गांव में दो टी.बी. के मरीज है। ये लोग इलाज के लिए एक गांव से दुसरे गांव के धक्के ख रहे हैं।
मरीज उमेश का कहना है कि एक साल से बीमार हूँ। नये गांव छावनी में इलाज कराया है। दो बार वहां जाने में पांच हजार का खर्चा आया है। सरकारी अस्पताल से इलाज नहीं कराया है क्योंकि इसके बारें में कोई जानकारी नहीं थी। गांव में किसी प्रकार सूचना या कैम्प नहीं लगे थे। प्राइवेट अस्पताल से इलाज कराना मंहगा पड़ता है। उपचिकित्सा अधिकारी प्रतिपाल यादव का कहना है कि यहां टी.बी. के मरीजों को डाट्स की दवा दी जाती है। पैसे वाले प्राइवेट में और गरीब यहां दवा कराने आते हैं।यहां की दवा में लोगों कों भरोसा कम हैं तो बाहर की दवा कराते हैं। यहां से दवा लेने के लिए लोगों को जागरूक किया जाता हैं।

रिपोर्टर- राजकुमारी

Published on Jan 19, 2018