सरकार का सपना नहीं हो रहा है पूरा, महोबा जिले में सड़क कम, गड्ढे ज्यादा

जिला महोबा यहां चरखारी गांव से सूपा गांव तक जाने वाली दस किलोमीटर सड़क गड्ढ़े में बदल गयी है।क्या सरकार का गड्ढ़ा मुक्त सड़क करनें का सपना पूरा हो गया है?यहां सड़क का काम शुरू तो हुआ है लेकिन तीन किलोमीटर सड़क में गिट्टी बस पड़ी है और काम बंद हो गया ।जिससे यहां निकलने वालों को बहुत परेशानी होती है।
चंचल बाबू का कहना है कि इस गांव से बच्चें महोबा और चरखारी पढ़ने जाते हैं तो बच्चों को निकलने में बहुत परेशानी होती है। योगी कह रहे थे कि 15 जून तक सड़क गड्ढ़े  मुक्त हो जायेंगी लेकिन ऐसा कुछ नहीं हुआ है।नीरपत ने बताया कि यहां से पांच-छह गांव के लोग निकलते है क्यों कि चरखारी जाने के लिए कोई दूसरा रास्ता नहीं है। ऑटो ड्राइवर ज्ञान प्रकाश दिवेदी का कहना है कि हर महीनें ऑटो बनवाने में दो तीन हजार रूपये लगते हैं। दो साल से सड़क ख़राब पड़ी है गड्ढ़े के कारण हमारी ऑटो टूट जाती है।आशा कार्यकर्ता उर्मिला ने बताया कि सड़क के कारण लोग मर भी जाते हैं इस कारण हम मरीज लेकर महोबा जाते हैं।छात्र दिलीप कुमार ने बताया कि बच्चें ख़राब सड़क के कारण  साइकिल की जगह ऑटो से स्कूल जाते हैं। पहले स्कूल जाने में बीस मिनट लगता था अब पैंतालिस लगतें हैं।
चार दिन विभाग के चक्कर लगाने के बाद भी अधिकारी नहीं मिले इस  कारण सड़क समस्या पर बात नहीं हो पाई है।

बाईलाइन-श्यामकली

31/10/2017 को प्रकाशित