सरकारें बदली नहीं बनी सड़के

नई आउत सड़क बने की नोमत
नई आउत सड़क बने की नोमत

बुन्देलखण्ड इलाका के महोबा जिला की खराब सड़के आदमियन के आय-जाय में भारी मुसीबत बनी हे। उत्तर प्रदेश की सरकार चुनाव के पेहले सड़क, पानी, बिजली की पूरी भरपाई खा वादा करो हते। गांवन की सड़क होय चाहे बिजली समस्या जेसें की तेसी बनी हें।
सरकार के कार्यकाल के दो़ साल पूरे हो गए हे,पे गांवन की सड़कन की हालत ओर जर्जर होत जात हे। महोबा के कबरई, चरखारी, पनवाड़ी ओर जैतपुर ब्लाक की सैकड़न गांवन खा जोड़े वाली सड़के गड्ढन का रूप ले लेत हे। पे ई सड़कन में सरकारी कर्मचारी ओर प्रधान कोनऊ को ध्यान काय नई जात हे। जभे की गांवन के आदमी केऊ दइयां ई सड़कन की जानकारी ओर लिखित दरखास शासन ओर प्रशासन खा दओ हे। जभे चुनाव आउत हे तो नेता मंत्री पेहले सड़क बनवायें को लालच देत हे। जीते खे बाद ऊ गांव खे जनता ओर समस्या खा काय भूल जात हे?
जभे कि हर तीन साल मे सड़क बनवाये खा बजट आउत हे। बजट आये के बाद भी एसो काय करो जात हे अगर कहूं सड़क बनत भी हे तो ऊमें मसाला नींक नई लगाओ जात हे। जीसे सड़क जल्दी खराब हो जात हे। या फिर कहूं सालन बीते के बाद भी सड़क बने की नोमत नई आउत हे। जीसे सड़क के गड्ढा तालाब को रूप धारण कर लेत हे। का ऐसी सड़कन से अधिकारी नई निकरत हें जीसे ध्यान नई दओ जात हे।