समस्या के समाधान कहिया होतई

imagesCACNU3GQ
आंगनबारी केन्द्र

जिला सीतामढ़ी, प्रखण्ड रीगा, गांव भवदेपुर। उहां आंगनबारी केन्द्र संख्या पैसठ पर चार साल से सहायिका न अवई छथिन। जेई कारण सेविका के केन्द्र चलावे में परेशानी होई छई। जबकि सहाईका परिवारिक समस्या के कारण न अवई छथिन।
सेविका रीता देवी कहलथिन कि इहां चार साल से सहाईका न अवई छथिन। जेई कारण हमरा बड़ा दिक्कत होईय। अगर मिटिंग में जाय परईय त ओई दिन सवेरिये खिचडी बना के रख देइले। तब बच्चा बुला के लइली ओई के बाद निगरानी समिति के महिला किशोरी लड़की के बुलाके रख देई ले तब हम मिटिंग में या पोषाहार लावे जाई लें। सहाईका संजोगन देवी कहलथिन कि हमरा काम करे के मन हई लेकिन हमर पति न करे देई छथिन। एक दिन मिटिंग मे देर हो गेल त बात बोली कहे लगलथिन अउर केन्द्र पर जाय से माना करई छथिन। जेइ कारण हम न जा पवई छी। लेकिन हमरा  रिजाइन देवे के मन न हई।
मुखिया अनिता देवी, के पति शिव जी भण्डारी कहनथिन कि विभाग से बहाली के लेल डेट निकलईं छई। लेकिन बहाल न हो रहल हई। समेकित बालविकास परियोजना के पदाधिकारी अंजू कुमारी कहलथिन कि चयन मुक्ति के लिस्ट तइयार कके जिला में  देल गेल हई। जिला से स्वीकृत हो के अतई तब  उहां नया सिरे से बहाली कयल जतई।