समझौता न करने पर आरोपियों ने दोबारा उसी लड़की के साथ किया सामूहिक बलात्कार

Hariyana_court

हरियाणा के रोहतक में सामूहिक बलात्कार के पांच आरोपियों ने तीन साल बाद उसी दलित युवती को कथित रूप से अगवा कर उसके साथ फिर सामूहिक बलात्कार किया।  इस बार आरोपियों ने दलित लड़की को बलात्कार के बाद मरने के लिए झाड़ियों में फेंककर भाग गए।
20-वर्षीय दलित युवती के परिजनों के अनुसार, सभी आरोपी 20 से 30 साल की उम्र के हैं, और फिलहाल जमानत पर आज़ाद हैं। वे उनसे वर्ष 2013 के पिछले सामूहिक बलात्कार के मामले में समझौता करने के लिए दबाव डाल रहे थे, और उन्होंने इसी बात की सज़ा इस लड़की को दी कि वह कोर्ट में उनके खिलाफ मुकदमा लड़ रही है।
युवती ने बताया, “मैं कॉलेज से बाहर आई थी, और ये पांच लोग कार में थे… तीन लोग कार के भीतर बैठे थे, और दो बाहर खड़े थे…” इसके बाद उन्होंने उसे कार में खींच लिया, उसे नशीली दवा पिला दी, और उसकी बेहोशी की हालत में उसके साथ बलात्कार किया और उसके बाद वे उसे झाड़ियों के पास फेंककर चले गए।
तीन साल पहले हुई सामूहिक बलात्कार की वारदात के बाद रोहतक में आकर बस गए लड़की के परिवार के मुताबिक, पांचों आरोपी, जो ऊंची मानी जाने वाली जाति के हैं, परिवार को 50 लाख रुपये लेकर मामले में समझौता करने के लिए धमका रहे थे। यह परिवार पहले हरियाणा के ही भिवानी शहर में रहा करता था लेकिन बेटी के साथ हुई इस घटना के बाद, रोहतक आ गए थे.

पुलिस का कहना है कि युवती को रोहतक के सुखपुरा चौक इलाके में झाड़ियों में पड़ा पाया गया, और फिर उसने शिकायत दर्ज कराई, और अब वह अस्पताल में है।

पुलिस अधिकारी गरिमा ने कहा, “हम एफआईआर दर्ज करेंगे… फिलहाल आरोपियों की तलाश के लिए एक टीम भिवानी भेज दी गई है…”