सतना जिले के डेलौरा गाँव में मजदूरों के खून पसीने की कमाई का कब मिलेगा दाम?

सतना जिला के डेलोरा गांव के लोगों ने वृक्षारोपण के तहत मजदूरी की थी। लेकिन वन विभाग की लापरवाही के कारण इन लोगों की मजदूरी नहीं मिली हैं।  वृक्षारोपण का काम 23 अप्रैल 2016 से 8 अगस्त 2016 तक काम चला लेकिन वन विभाग में शिकायत के बाद भी लोगों को मजदूरी अभी तक नहीं दी गई है।
सुखवरिया का कहना है कि दो सौ रूपये के हिसाब से हमने इकतिस दिन काम किया था। जिसमें से दो हजार मिल गये है और चार हजार दो सौ रूपये बाकी हैं। अधिकारी पूरी हाजिरी नहीं बताते हैं, न पूरा पैसा देते हैं। मुन्नी का कहना है कि काम करने के लिए लड़के को लिवा गये थे लेकिन अभी तक मजदूरी नहीं मिली है, चार बार बैंक में गये है। रामकली ने बताया कि मेरे पति ने बीस दिन काम किया था लेकिन अभी एक भी पैसा नहीं मिला है।
मुनीम राजेश का कहना है कि जंगल विभाग की तरफ से वृक्षारोपण का काम कराया गया था।
सतना उप वन मंडलाधिकारी धीरेन्द्रप्रताप सिंह का कहना है कि जांच की जायेगी कि लोगों को मजदूरी मिली है या नहीं।

रिपोर्टर- रीता साकेत और मीरा देवी

Published on Mar 29, 2018