सतना घटना के बाद ईसाई समुदाय को सरकार पर भरोसा नहीं!

साभार: विकिपीडिया

देश के प्रमुख ईसाई संगठन ने कहा है कि धर्म के नाम पर देश में ध्रुवीकरण किया जा रहा है जिससे ईसाई समुदाय का सरकार पर से भरोसा उठ रहा है।
एक अंग्रेजी अख़बार के अनुसार, कैथोलिक बिशप कॉन्फ्रेंस ऑफ इंडिया के अध्यक्ष कार्डिनल बसेलिओस क्लीमिस ने कहा कि ईसाई समुदाय के नजरिए से सतना में पादरियों पर हुआ हमला और राज्य सरकार द्वारा पादरियों के खिलाफ ही मामला दर्ज करना, अपराधियों की बजाए मासूम और गरीबों को गिरफ्तार करने के बाद हमारा सरकार पर से भरोसा उठ रहा है।
उन्होंने कहा कि मैं ये मानता हूं कि इतने बड़े देश में इस तरह की घटनाएं हो सकती हैं। लेकिन आप सरकार की ताकत और उसके रुख का मूल्यांकन कैसे करते हैं? ऐसे मामलों में सख्त कार्रवाई और कानूनी सुरक्षा मिलती, तभी सरकार की मौजूदगी का पता चलता। धर्म के नाम पर देश को बांटा जा रहा है। लोकतांत्रिक देश में ऐसा होना ठीक नहीं है। मैं चाहता हूं कि मेरा देश धर्मनिरपेक्ष रहे। लेकिन अब देश में धर्म के नाम पर ध्रुवीकरण किया जा रहा है। हमें इसके खिलाफ लड़ना होगा।
बता दें कि बीते हफ्ते मध्यप्रदेश के सतना जिले में कथित रूप से धर्मांतरण के एक मामले में बजरंग दल के कुछ कार्यकर्ताओं ने पादरियों सहित ईसाइयों के साथ मारपीट की थी और उनकी कार को भी पुलिस थाना परिसर में कथित रूप से आग के हवाले कर दिया था। साथ ही एक ईसाई पादरी को गिरफ्तार भी किया गया था और पांच अज्ञात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया था।