सड़कों पर उतरे खेत मजदूर

taza dharna faizabad
खेत मजदूर धरने पर

जिला फैजाबाद, ब्लाक पूराबाजार कस्बा फैजाबाद। 16 जुलाई 2013 को किसान यूनियन वालों ने गुलाबबाड़ी मैदान में मीटिंग करने के बाद विकास भवन तक जुलूस निकाला और डी.एम. से अठ्ठारह मागों को लेकर लगभग सौ लोगों ने धरना दिया।
बारून बाजार मिल्कीपुर क्षेत्र की किसान विमला, रामतीरथ, कुशुम ने बताया कि हमारा घर बारिश के कारण गिर गया है और खेत भी नहीं है। हम गरीबों के लिए कोई काम भी नहीं हैं।
बहादुरपुर की मालती, नयिका ने बताया कि हम लोगों के राशन कार्ड भी नहीं है। राशन कार्ड पहले था तो प्रधान फूलना देवी ने कटवा दिया है। वहीं भीमपुरवा की कैलास पति, शान्ति, रामप्यारी ने बताया कि मनरेगा में भी काम नहीं मिलता हैं कि उसी से अपना खर्चा चले। इतनी मंहगाई है कि कुछ भी खरीदना मुश्किल हो गया हैं।

 

जिला महासचिव अखिलेश चतुर्वेदी ने बताया कि उन लोगों के तीन एकड़ से कम जमीन है कुछ लोगों के पास जमीन ही नहीं है जो जमीन है उसमें खुद काम करते है और दूसरों के यहाँ मजदूरी करते  हैं। लेकिन आमदनी कम है। मनरेगा में हो रहे घोटाले पर केन्द्र सरकार ध्यान नहीं दे रही है। दलितों, पिछड़ों गरीबों पर लगातार अत्याचार हो रहे है और चोरी, डकैती, बलात्कार, लूट और हत्याएं भी हो रही हैं।

कुछ मागें-
1-खेत मजदूरों के लिए पेंशन कानून बनाओ।
2-इन्दिरा आवास योजना में पक्का मकान निर्माण के 15 डिसमिल जमीन दो तथा 3 लाख रुपये मकान निमार्ण के लिए दो।
3-ब्लाक मिल्कीपुर के ग्रामसभा देवरिया के मजदूरों को समय से मनरेगा में काम न मिलने के कारण उनको बकाया बेरोजगारी भत्ता तुरन्त दिया जाये।
4-सभी किसानों को ब्याज रहित ऋण दिलाया जाय एवं कृषि को उद्योग का दर्जा दिया जाये। किसानों को खेती के लिए 16 घंटे बिजली उपलब्ध कराया जाय।