सड़कन के बदहाली बसन का बुरा हाल

जिला बांदा, ब्लाक नरैनी, कस्बा कालिंजर, करतल अउर बांदा से बबेरू। इं सड़कन का सफर करब अउर साधनन का पंचड़ होब यात्रिन का मुश्किल परा जात है। यहिके खातिर पी. डब्लू. डी. विभाग कउनौ ध्यान नहीं देत आय।
नरैनी से कालिंजर जाय वाली सड़क मा 17 नवम्बर 2013 का कार्तिक पूर्णिमा के कारण सैकड़न वाहन अउर लाखों के संख्या मा कालिंजर किला घूमै मड़ई आवत-जात रहै। वहै दिन वा खुदी सड़क मा बड़े- बड़े गिट्टा होय से दुई रोडवेज अउर दुई प्राइवेट गाड़ी पंचड़ भई। जेहिसे सवारिन के बीच बहुतै हंगामा भा। बांदा से आवा सुरेश, मटौध

सड़क बनी जगंल के धूल
सड़क बनी जगंल के धूल

से आई सावित्री अउर महोबा से आवा कामता बतावत है कि हम लोग कालिंजर किला आय रहन। अब वापस घरै जात हन। यतनी रात होत है पै सड़क खराब होय से गाड़ी पंचड़ होइगे है अउर सवारिन का घरै पहंुचब मुश्किल है। जबै पी.डब्लू.डी. विभाग यतान के ऐतिहासिक जघा की सड़क का अधूरी डाले है, तौ बाकी सड़कन के कउनौ गिनती निहाय।
कालिंजर रोड मा कैम्पर चलावै वाला ड्राइवर पप्पू कहत है कि मेला मा चार दिन कमाई का अच्छा मौका मिलत है, पै सड़क से परेशान हन। नरैनी से करतल जाय वाली तेइस किलोमीटर सड़क भी बीच-बीच खराब है। यहिमा बड़े-बड़े गड्ढा है। मुकेरा के सेमिया अउर करतल का रावेन्द्र बतावत है कि या सड़क मा गड्ढा होय से साधन पलटै का डेर रहत है। लागत है कि या सड़क से न निकरै का परै पै मजबूरी है कि निकरत हन।
पी. डब्लू. डी. खण्ड एक के अधिशाषी अभियन्ता राजेश कुमार कहत है कि कालिंजर सड़क खातिर पांच करोड़ बजट पास भा है। जल्दी काम शुरू कीन जई। करतल सड़क खातिर कउनौ बजट निहाय। वहिके गड्ढा भरावैं के कोशिश कीन जई।
बांदा से बबेरू जाय वाली चालिस किलोमीटर सड़क मा भी बीच-बीच गड्ढा हैं। बेलबाई के रामऔतार कहत हैं कि सड़क मा गड्ढा होय से गाडी पंचड़ होइ जात है। पी. डब्लू. डी. खण्ड दुई के सहायक अभियन्ता ओ.पी. सिंह कहत है कि वा सड़क मा काम शुरू है। जउन गड्ढा है उनका पूरा दीन जई।