संगीता के हालत देख भी बइठ चुप पुलिस

DSCN1777 - Copyजिला बांदा, ब्लाक जसपुरा, गांव पड़ोहरा। हेंया के संगीता का ससुराल वाले इनतान मारिन है कि 20 नवम्बर 2014 का वहिके हालत देख एस.पी. पीयूष श्रीवास्तव दस दिन मा कारवाही करैं के बात पत्रकार के सउहें कहिन रहैं। पै आज भी संगीता जिन्दगी अउर मउत के बीच जूझत है।
संगीता बताइस-“ससुर गोरेलाल सास मथुरिया नंद अउर जेठानी चार दरकी मोहिका मार चुकी हैं। पंाचवी दरकी मोहिका मारिन अउर सास अन्दरूनी अंग मा हाथ डाल दिहिस। मारपीट के बाद छह दिन बांदा जिला महिला अस्पताल मा भर्ती रही हौं। दवाई आज भी चलत है, पै कउनौ आराम निहाय। मैं बइठ नहीं पावत आहूं अउर टट्टी पेशाब मा दिक्कत है। शरीर से अबै भी पानी चलत जात है। एकौ बच्चा निहाय। मोर मनसवा शिवातार मोर साथ है, पै ससुराल वाले मनसवा के सिधाई का फायदा उठावत हंै। मैं आपन मइके सांड़ी गांव ब्लाक तिन्दवारी से बाप सभाजीत का बुला के पैलानी थाना मा रपट करे हौं। मैं ससुराल मा ही रहत हौं। आज भी ससुराल वाले जान से मारैं के धमकी देत हैं।
एस.पी. पीयूष श्रीवास्तव कहिन वा औरत दुबारा से मोहिका दरखास दे तबै कारवाही होई। मउके मा पैलानी थाना एस.ओ. सुरेन्द्र सिंह से पत्रकार के बात कराइन।
एस.ओ. कहत रहैं कि या मामला मा धारा 323 मारपीट, 504 गाली गलौज, 506 जान से मारैं के धमकी के तहत मुकदमा लिखा गा रहै। मुकदमा का चालान बांदा अदालत का कई दीन गा है।