शौचालय होते हुए भी क्यूँ लोग शौच के लिए हैं बाहर जाने को मजबूर? देखिये फैजाबाद के बरेहटा गाँव में

जिला फैजाबाद, ब्लाक तारून, गाँव बरेहटा मा 2015-16 मा बना लोहिया आवास अउर  शौचालय अधूरा पड़ा बाय जेसे मनइन का शौच के ताई बाहर जाय का मजबूर अहैं।
रामकेवल बताइन की दुई साल से बना आवास अबहीं आधा-अधूरा पड़ा बाय। कउनौ सुबिधा नाय मिली। शौचालय भी पूरी नाय बनीं। सविता देवी कै कहब बाय कि शौचालय अधूरा हुवय के कारण चालीस बीघा दूर शौच के ताई जाय का पराथै। हाथ टूटे के वजह से यतना दूर जाय मा बहुत मुश्किल हुवत बाय। शान्ति कै कहब बाय कि ठण्ड कै मौषम कहूँ बैठय कै जगह नाय बाय, न ही बरसात अउर जब फसल कट जाये तब चारव तरफ से देखाय लागे तब भी दिक्कत बाय।
प्रधान प्रतिनिधि सुरजीत यादव बताइन की दुई सौ तिरालिस शौचालय महसे छह शौचालय लेबर न मिलै की वजह से अधूरा पड़ा बाय। एक हप्ता के अन्दर बन जाये।
एडीओ पंचायत अशोक कुमार वर्मा बताइन कि तीन लाख पांच हजार रुपया महसे दुई लाख पचहत्तर हजार लाभार्थी के खाता मा भेजा जाथै। अगर आवास अधूरा बाय तौ लाभार्थी नाय बनवाइस अगर शिकायत आये तौ वकै जाँच कराय जाये।

रिपोर्टर-कुमकुम यादव 

Published on Mar 12, 2018