शौचालय बिना होत परेशानी

lolara ganva sochalaya ke manga copyजिला महोबा, ब्लाक पनवड़ी, गांव लोलारा, मजरा निसवारा। एते के लोगन खा आरोप हे कि उनके गांव में शौच कि बोहतई परेशानी हे। अगर सरकर के एते से आये वाले शौचालय हम लोगन खा भी मिल जाते तौ बोहतई अच्छो रहत।
भरतलाला, मानकुआर, नरयण, किशोरी, ओर किसन ने बताओ कि हमाए एते टट्टी कि जघा नइया। बच्चा सयान लड़का बच्चा ओर औरतन खे लाने टट्टी कि होहतई परेशानी हे। गांव से उक किलो मीटर दुर शौच खा जाने परत हे। इ मारे अगर रात बिरात कोनउ को पेट खराब हो गओ तो हम लोग उनके साथे बाहर खेतन में टट्टी करायें का जात हें। इ मारे चोर बदमाशन खां डेर लागत हे। मोहन नन्दराम ओर पन्नालाला बताउत हे कि पिछले साल एक लड़की बाहर शौच का गई हती तो उखा लोगन ने पकड लओ हतो। छोट छोट के बच्चा ओर बुढ़े लोग तो उतनी दूर चल भी नई पाउत आय। इस लागत हे कि जोन सरकार ने स्वच्छ भारत अभियान खे तहत शौचालय वाली योजना चलाई हे उमें हम गरीब अदमियन खा भी कुछ शौचालय मिल जाय तो अच्छो हे।
प्रधान सुर्य विकृम सिंह कहत हे कि पिछली पंचवर्षीय में कुल पन्द्रह शौचालय आय हते। जीमे से सात शौचालय निसवारा में बन गऐ हें, पांच लोलारा में ओर तीन मरगपुरा में बन गए हे।
पनवाडी बी.डी.ओ. प्रदीप कुमार कहत हे कि जोन गांव लोहिया हें पहले उते के लाने शौचालय आये हते। बांकी के गांवन में जेतने कि गांव के प्रधान लिस्ट बना के देत हें। उते से जेतने आउत हें तो लोगन खा दए जात हे।