शिवसेना बीजेपी से होगी अलग, पार्टी 2019 का चुनाव अकेले लड़ेगी

साभार: विकिपीडिया

शिवसेना ने 2019 में अकेले अपने दम पर लोकसभा चुनाव लड़ेगी। पार्टी की कार्यकारिणी की बैठक के दौरान पार्टी प्रमुख उद्धव ठाकरे ने साफ किया कि अगला विधानसभा चुनाव भी पार्टी अकेले ही लड़ेगी।
उन्होंने कहा कि पार्टी ने फैसला किया है कि राज्य में पार्टी अपने दम पर आगे चुनाव लड़ेगी और राज्य के बाहर भी हिंदुत्व के मुद्दे पर चुनाव लड़ेगी। उन्होंने कहा कि पार्टी की हार होती है या जीत यह जरूरी नहीं, पार्टी की विचारधारा जरूरी है।
कार्यकारिणी की बैठक में शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने कहा कि महाराष्ट्र की जनता ने जो विश्वास उन पर और पार्टी पर जताया है वह उसके आभारी हैं। उन्होंने कहा कि बीजेपी से अलग चुनाव लड़ने का फैसला काफी विचार करने के बाद लिया गया है।
उन्होंने कहा कि अगर सरदार वल्लभ पटेल पीएम होते तो कश्मीर का मुद्दा बनता और मराठवाड़ा भी आजाद नहीं हो पाता।
बता दें कि राज्य में अभी बीजेपी और शिवसेना की गठबंधन सरकार है। बीजेपी राज्य में सबसे बड़ी पार्टी है और पिछला चुनाव शिवसेना और बीजेपी ने अकेले अकेले ही लड़ा था। चुनाव परिणामों के बाद सत्ता समीकरण के चलते दोनों दलों में गठबंधन हुआ था और बीजेपी के नेतृत्व में सरकार बनी थी।