शिवसेना की धमकियों का शिकार राजनीति फिल्म कला और खेल

shivsena tahalka
फोटो साभार- तहलका

मुंबई, महाराष्ट्र। कट्टर हिंदूवादी संगठन शिवसेना की दखलंदाज़ी राजनीति, खेल और कला जगत तीनों में लगातार बढ़ती ही जा रही है।
शिवसेना की नई धमकी है कि अब वह भारत की फिल्मों का हिस्सा किसी पाकिस्तानी कलाकार को नहीं बनने देंगे। जल्द ही रिलीज़ होने वाली फिल्म ‘ऐ दिल बड़ी मुश्किल’ में रणबीर कपूर के साथ फवाद खान हैं तो ‘रईस’ फिल्म में शाहरुख खान के साथ माहिरा खान हैं। मगर शिवसेना ने धमकी दी है कि ये फिल्में रिलीज़ नहीं होने देंगे। इससे पहले भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच चल रही क्रिकेट सीरीज़ से अंपायर अलीम डार को भी शिवसेना की धमकी के कारण ही हटाना पड़ा।
2 अक्टूबर से शुरू होने वाली इस सीरीज़ का आखिरी मैच 3 दिसंबर को खेला जाना है। पाकिस्तानी कमेंट्रेटर वसीम अकरम और शोएब अख्तर ने इन धमकियों के चलते खुद ही सीरीज़ में कमेंट्री करने से मना कर दिया। पाकिस्तानी नेता कसूरी की किताब मुंबई में जारी करने के विरोध में राजनेता सुधींद्र कुलकर्णी पर और जम्मू कश्मीर के विधायक राशिद अहमद पर गोमांस की पार्टी देने के विरोध में पहले ही स्याही फेंकी जा चुकी है। 14 अक्टूबर को गज़ल गायक गुलाम अली का कार्यक्रम तो पहले ही विरोध के कारण रद्द करना पड़ा था।
19 अक्टूबर को शिवसैनिकों ने बीसीसीआई यानी बॉम्बे क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड में घुसकर हंगामा किया था। इस हंगामे के कारण बीसीसीआई प्रमुख शशांक मनोहर और शहरयार खान की मुलाकात भी रद्द करनी पड़ी। ताज़ा मामला 21 अक्टूबर का है जबकि शिवसेना अध्यक्ष ने कहा कि हम पाकिस्तानी कलाकारों की फिल्मों को न तो रिलीज़ होने देंगे और न ही पाकिस्तानी कलाकारों को महाराष्ट्र में प्रचार के लिए आने देंगे।