शिक्षा के क्षेत्र मा उतारब एक मात्र सपना

F W  copy copyजिला फैजाबाद, श्रीराम अन्ध ज्ञान विद्यालय प्रज्ञानगर नोन्हरिया अयोध्या। हिंआ सन्1998 से अन्ध ज्ञान विद्यालय चलत बाय। जेहमा आंख से विकलांग बच्चन कै पढ़ाई हुआथै। इनके सबकै खाना खर्चा स्कूल के तरफ से मुफ्त रहाथै।
गेदहरन कै देखभाल करै वाले अनिल सिंह बताइन कि स्कूल तौ 1998 से शुरु भै बाय। 2004 मा स्थाई मान्यता प्राप्त भै। आंख से विकलांग गेदहरन कै स्कूल खोलै कै उद्देश्य बाय कि ऐसन गेदहरै जवन ट्रेन मा स्टेशन पै भीख मांगत नजर आवाथिन। वै शिक्षा से जुडि़ सकैं। छुट्टी के समय गांव गांव जाइके गेदहरन का खोजा जाथै। काफी समझावै बुझावै के बाद कउनौ कउनौ गेदहरन कै महतारी बाप राजी हुआथिन। गोरखपुर गोन्डा फैजाबाद जइसेन शहर से गेदहरै पढ़ाई हिंआ करत अहैं।
चित्रकूट से एम.ए. कै पढ़ाई कै चुके स्कूल कै टीचर शिवशंकर तिवारी विहार से फैजाबाद मा 26 जुलाई 2015 से पढ़ावत अहैं। इनकै कहब बाय कि हमरे सबके पढ़ाई मा कउनौ ज्यादा अन्तर नाय बाय। सिर्फ भाषा कै अन्तर बाय। हमरे सब ब्रम्हलिपि मा पढ़ीथी। बाकी सब देवनागरी लिपि मा। हमार सपना विकलांगन का ढूंढके शिक्षा के क्षेत्र मा उतारै का बाय।