शादी का जश्न मौत के दुःख में बदल गया, बांदा के बिसंडा में

जिला बांदा, ब्लाक बिसंडा, गांव बबइंया शादी के जश्न मा चारों कइत ख़ुशी का महौल रहै शहनाई बजै के तयारी होत रहै सब महिमान घर मा आ गे रहै पै लड़की के बाप मुन्ना के दिल के दौरा पड़े से मउत होइगे है।जिला बांदा, ब्लाक बिसंडा, गांव बबइंया शादी के जश्न मा चारों कइत ख़ुशी का महौल रहै शहनाई बजै के तयारी होत रहै सब महिमान घर मा आ गे रहै पै लड़की के बाप मुन्ना के दिल के दौरा पड़े से मउत होइगे है। मुन्ना दलित जाति के छोट किसान रहै अउर किसानी का काम करत रहै मुन्ना के मेहरिया दौलत बताइस कि लड़की के शादी खातिर मोर मनसवा बाहर कमाए गा रहै पै बाहर कमाई नहीं कइ पायें आहीं लड़की के शादी का रुपिया नहीं इक्कठा कइ पाए आहीं।यहै कारन सोच होइ गा रहै यहै मा उनकर जान गे है। चचेरा भाई रामबहोरी बताइस कि भाई का शादी के बहुतै चिंता रहै।18 जून का लड़की के शादी रहै।रुपिया के मदद करै का कहे हन पै तबहूं भाई के मउत होइ गे है।5 से लइके 1000 हजार तक गांव के मड़ई रुपिया है तबै लड़की के शादी कीन गे है। मुन्ना का लड़का लवलेश बताइस कि मोर बाप मोहिसे कहत रहै कि रुपिया कहां से मिली हैं। लड़की के शादी मा ढेढ़ लाख रुपिया लागत है।पै हमरे लगे 50 हजार रुपिया रहा हैं। लेखपाल बालकरन पटेल बताइस कि परिवारिक लाभ योजना के तहत मुन्ना के परिवार वालेन का मदद नहीं कीन जई। प्रशासन नियम तौ लागू कइ देत है पै दलितन के खातिर जउन योजना बनी है उंई दलितन तक नदी पहुंचत आहीं।

रिपोर्टर- मीरा देवी और शिवदेवी

27/06/2017 को प्रकाशित