वो परदेसी जो घर वापस नहीं लौट पाते, देखिए मछवारों की दर्द-भरी कहानी

जिला बांदा, गांव जसईपुर। रामबाई का कैंसर है यहै कारन वहिकर लड़का प्रकाश घर के हालत सुधारे अउर आपन महतारी के इलाज खातिर दुई महीना पहिले प्रदेश चला गा रहै पै केहिका पता रहै कि प्रकाश अंधेरा मा खो जई।प्रकाश के साथै दस अउर मजदूर मछली पकड़े के काम खातिर गुजरात गे रहैं।तबै 3 नवम्बर का गुजरात के ओखा जिला मा मछली पकड़त दरकी गलती से पकिस्तान के बार्डर पार कइ गे हैं।तबै सब मजदूरन का पकिस्तान के आर्मी पकड़ लिहिस है।सांसद भैरों प्रसाद 16 नवम्बर का या विषय मा बात करै खातिर दिल्ली गे रहै तबै उंई बताइस की या गंभीर समस्या आय आगे इनतान के घटना न होय यहिके खातिर बात कीन जात है जउन मजदूर पकिस्तान मा पकड़ गे हैं उंई जल्दी छूट जइहैं।
रामबाई का कहब है कि बहुतै गरीबी के कारन मोर लड़का प्रकाश पहिली दरकी परदेश गा है पै  हुंवा पता नहीं कसत पकड़ गा है तौ मोर आत्मा  बहुतै कलपत है दुई महीना होय के बादौ लड़का का एकौ रुपिया नहीं मिला रहै।
परदेश जाए वाले देवशरण के मेहरिया स्तभा बताइस कि हेंया का एक ठेकेदार सबहिन का प्रदेश लेवा गा है।
भैरम बताइस की हेंया के मड़ई कइयौ दरकी कमाए खातिर हुंवा जा चुके हैं पिछले साल भी यहिनतान के घटना भे रहै तबै दस महीना मा मड़ई छूट के आये रहै।धर्मेन्द्र बतावत है की मोर बाप एक दरकी परदेश गा रहै तौ यहिनतान  घटना भे रहै तबै उंई ढाई साल मा छूट के आये रहैं उदय राज पटेल बताइस कि पन्द्रह साल से मछली के धंधा के खातिर मड़ई हुंवा जात रहै पै पांच छह साल से इनतान के घटना ज्यादा होत है।यहिके खातिर भारत सरकार का नियम बनावें का चाही काहे से अनपढ़ अउर बेरोजगार मड़ई पाकिस्तान के बार्डर नहीं जानें पावत आहीं
प्रधान ज्ञान सिंह यादव का कहब है कि परदेश का मामला आय यहिके खातिर प्रधान मंत्री से कहा गा है सरकार कइत से इनतान के घटना रोकें खातिर कउनौ ठोस कदम नहीं उठावा गा आय इनतान मा परदेश जायें वालेन के परिवार वाले इंतजार करत रहत हैं का प्रकाश के घर मा खुशी के रोशनी होई?
बाईलाइन-मीरा देवी और शिवदेवी

Published on Nov 17, 2017