वृद्धा पेंशन की आस में निकल पड़े आंसू पर पेंशन न मिली, देखिये ललितपुर जिले के भौड़ी गाँव से

जिला ललितपुर, ब्लाक महरौनी, गांव भौड़ी यहाँ सैलून से लोगों को वृद्धा पेंशन नहीं मिली है। कई बार पेंशन के लिए आवेदन देने के बाद भी कोई सुनवाई नहीं हो रही है। इस वजह से वृद्ध लोगों के पास ना तो कुछ खाने-पीने को है ना ही कुछ पहनने को है।

बारेलाल ने बताया कि दो साल हो गया है एक पैर कटे हुए। हम और हमारी पत्नी दोनों लोग एक कपड़े को तीन साल से पहन रहे हैं। क्या करें? जब कोई सुनवाई नहीं हो रही है। हम तो पढ़े लिखे नहीं हैं, हमारी कोई मदद भी नहीं करता है हमें क्या पता की आनलाइन कैसे किया जाता है। प्यारेलाल ने बताया कि पेंशन ना मिलने के कारण हमें खाने पीने की बहुत ज्यादा समस्या हो रही है और लड़की की पढ़ाई में बहुत समस्या आती हैं पैसे न होने के कारण। हरबू का कहना है कि सब तरह की परेशानी होती है। नमक, तेल और कपड़ा खाने को कौन देगा। इस उमर बुढ़ापे में कोई काम भी नहीं करवा रहा है। ना ही काम कर पा रहें हैं। अगर सरकार की तरफ से कोई मदद मिल जाती तो हो सकता है की हम पनप जाएँ। नहीं तो मर तो जायेंगें। कड़ोरे का कहना है कि फ़ार्म भरने के लिए पहचान पत्र जैसे सब कागज दे दिए है लेकिन फिर भी पेंशन नहीं आ रही है।

समाज कल्याण विभाग के लक्ष्मण सिंह तोमर का कहना है कि जिसको पेंशन नहीं मिल रही है। संबधित ग्राम पंचायत से सम्पर्क करके वहां पर अपने आवेदन बनवाएं और आनलाइन कराएँ। आवेदक के आधारकार्ड, आय प्रमाणपत्र और पासबुक आदि सारी चीजे देनी होगी। तब जाके पेंशन आएगी।

रिपोर्टर: सुषमा

Uploaded on May 21, 2018