विकास से कोसों दूर है चित्रकूट जिले का देउधा गांव

जिला चित्रकूट, ब्लाक रामनगर, गांव देउधा। हिंया एकौ विकास नहीं आय गांव मा जाके देखे मा पता लागत हवै कि हिंया केत्ती गंदगी फैली हवै।बीसन साल से नाली के सफाई नहीं भे आये । मड़इन का कहब हवै कि गंदी नाली हमार घर के सामने हवैं तौ यहिसे मलेरिया के बीमारी फइलत हवैं।लोहिया समग्र गांव होय के बादौ मड़इन का कालोनी नहीं मिली आये, जउन मड़ई घूस देत हवैं प्रधान उंई  मड़इन का कालोनी  देत हवै।
राजेश कुमार विश्वकर्मा बताइस कि विकास के नाम से खंड़जा बस बना हवै नाली तौ गंदी पड़ी हवैं।विकास देवी बताइस कि नाली के गन्दगी के कारन मच्छर लागत  हवैं यहिसे  बच्चा बीमार  होइ जात हवै।
नारायण बताइस कि प्रधान कहत हवै कि हमें वोट नहीं दीनेव तौ हम विकास न करइबै।हमार गांव ओ.डी.एफ हवै पै प्रधान शौचालय दूसर जघा बनवाइस हवै।
हरी प्रसाद  बताइस कि प्रधान कलोनी खातिर घूस मांगत हवै मोर घर गिर गा हवै पन्नी लगा के रहत हौं। विकलांग हौ पै तबहूं मोर राशनकार्ड नहीं बना आय।प्रधान प्रतिनिधि भोला यादव का कहब हवै कि मैं विकास के काम मा स्कूल अउर खंड़जा का काम कराये हौं।कलोनी मा पच्चीस मड़इन का रुपिया आ गा हवै अउर छह मड़इन का बाकी हवै।
मुख्य विकास अधिकारी जय प्रकाश पाण्डेय का कहब हवै कि कलोनी का रुपिया लाभार्थी के खाता मा भेजा जात हवै।कलोनी खातिर एक लाख बीस हजार रुपिया मिलत हवै।

बाईलाइन-सहोद्रा

27/10/2017 को प्रकाशित