वाल्मीकि जयंती पर जानिए कवी वाल्मीकि जी को

फोटो साभार: विकिपीडिया

अश्विन मास की शरद पूर्णिमा को वाल्मीकि जयंती मनाई जाती है। वैदिक काल के प्रसिद्ध महर्षि वाल्मीकिरामायणमहाकाव्य के रचयिता के रूप में विश्व विख्यात है।
महर्षि वाल्मीकि को केवल संस्कृत बल्कि समस्त भाषाओं के महानतम कवियों में शामिल किया जाता है। एक पौराणिक मान्यता के अनुसार, उनका जन्म महर्षि कश्यप और अदिति के नौवें पुत्र वरुण और उनकी पत्नी चर्षणी के घर में हुआ।
माना जाता है कि महर्षि भृगु वाल्मीकि के भाई थे। महर्षि वाल्मीकि का नाम उनके कड़े तप के कारण पड़ा था। एक समय ध्यान में मग्न वाल्मीकि के शरीर के चारों ओर दीमकों ने अपना घर बना लिया। जब वाल्मीकि जी की साधना पूरी हुई तो वो दीमकों के घर से बाहर निकले। दीमकों के घर को वाल्मीकि कहा जाता हैं।
पूरे भारतवर्ष में वाल्मीकि जयंती श्रद्धाभक्ति एवं हर्षोल्लास से मनाई जाती हैं। वाल्मीकि मंदिरों में श्रद्धालु आकर उनकी पूजा करते हैं। इस शुभावसर पर उनकी शोभा यात्रा भी निकली जाती हैं जिनमें झांकियों के साथ भक्तगण उनकी भक्ति में नाचते, गाते और झूमते हुए आगे बढ़ते हैं।
महर्षि वाल्मीकि ने रामायण महाकाव्य के सहारे प्रेम, तप, त्याग इत्यादि दर्शाते हुए हर मनुष्य को सदभावना के पथ पर चलने के लिए प्रेरित किया। इसलिए उनका ये दिन एक पर्व के रुप में मनाया जाता है।