वसीम की कहानी ! जिन्हें प्यार का एहसास करंट के रूप में हुआ

मेरा नाम वसीम है। जब में स्कूल में पढ़ता था, तब मेरे साथ एक लड़की पढ़ती थी, पिंकी। बड़ी शैतान लड़की थी, बहुत बदमाशियां करती थी। अगर कोई उसकी चेर पर बैठ जाएँ, तो वो उसकी पिटाई कर देती थी। लेकिन मेरे साथ तो बड़ी अच्छी थी, हमेशा मेरी टेस्ट कॉपी को बना लाती थी और एक्साम टाइम में मेरी मदद करती। हम दोनों साथ साथ में लंच किया करते थे और मैं उसका लंच बॉक्स खुद ही खोल के खा लेता था। मेरे बाकी दोस्त बहुत चिढ़ाते थे मुझे।
एक दिन पिंकी क्लास के दरवाज़े के सामने खड़ी हो गयी और किसी को अन्दर नहीं जाने दिया। बस वही शैतानी! तब मैंने उसको धक्का दिया और अन्दर क्लास में चला गया। लेकिन जैसे ही मैंने उसे धक्का दिया, तो मानो जैसे मेरी पूरी बॉडी में करंट जैसा लग गया। बिलकुल वैसे ही जैसे किसी बिजली की खम्भे को हाथ लगालो तब होता है! उस टाइम तो मैंने उस बात को ध्यान नहीं दिया और हम दोनों ही मुस्कुराते हुए अपनी-अपनी सीट पर बैठ गए। फिर एक दिन पिंकी से उसकी कॉपी मांगी कर उसमें अपने प्यार का इज़हार लिख दिया। ‘आई लव यू’ लिखके उसको वापस किया तो वो बोली, “तुमने अपना काम इतनी जल्दी कर लिया?” मैंने भी मुस्कुरा कर बोल दिया, “हाँ।” पिंकी ने पन्ने पलटे और मेरे लिखे को देखकर मुस्कुराई।
बस, कुछ दिनों बाद ही स्कूल में गणतंत्र दिवस का प्रोग्राम था और उसके एक नाटक में पिंकी को मेरी पत्नी का रोल मिला। उस नाटक में मुझे, मरना था और पिंकी को मुझे अपने सीने से लगाकर रोना था। पिंकी वो रोल करने में बहुत रोई रोयी। वो उसके सच के आंसू थे। बस, तब मुझे ये एहसास हुआ कि पिंकी मुझसे प्यार करती है।

13/01/2017 को प्रकाशित