वर्षा साहू से मिलिए. आप शायद इनको बुलेट रानी के नाम से ही पहचानते हो? बस, यहीं तो दिक्कत है!

बांदा के गहबरा गांव में एक प्रेमिका ने शादी के मण्डप से दूल्हे का अपहरण कर लिया। इससे न सिर्फ शादी रुक गई, बल्कि पूरे इलाके में सनसनी फैल गई। यह झूठी कहानी आपने मुख्यधारा मीडिया में “रिवाल्वर रानी” के नाम से सुनी-पढ़ी होगी लेकिन असलियत यह नहीं है। मुख्यधारा मीडिया ने इसमें प्रेमिका को एक खलनायिका का किरदार सा बना दिया।

खबर लहरिया पत्रकार इस खबर की जाँच करने के लिए बाँदा गयीं और वर्षा साहू से मिली। जी हां, इनका नाम वर्षा है, पर मीडिया वालों ने इस पर गौर करने की ज़रूरत नहीं समझी, और उनको ‘रिवाल्वर रानी’ का खिताब दे दिया।  

बांदा जिले अशोक यादव और वर्षा एक दूसरे से प्यार करते हैं, शादी करना चाहते हैं लेकिन दोनों की जाति अलग होने की वजह से मुश्किलें आन खड़ी हुई। इसी बीच अशोक ने कहा कि वो नौकरी के लिए बाहर जा रहा है और लौट कर वर्षा से मिलेगा। अशोक लौटा लेकिन वर्षा से मिला नहीं। वर्षा उससे मिलने के लिए जब उसके घर के तरफ गयी तो पता लगा वहां सगाई का कार्यक्रम चल रहा है। वर्षा ने पता लगाया कि किसकी सगाई हो रही है। उस वक़्त वर्षा सकते में आ गयी जब उसे पता चला कि अशोक की सगाई है और इस महीने में ही उसकी शादी भी है।

इसके बाद वो घर लौट आई। लेकिन अशोक इस बीच कहीं गायब हो गया जिसका सारा दोष वर्षा पर आया और अशोक के परिवार ने एक कहानी गढ़ी कि वर्षा अशोक को रिवोल्वर की नोक पर अगवा कर ले गयी है जो पूरी तरह से झूठी कहानी थी।

इसके बाद पुलिस ने वर्षा को उसके घर से गिरफ़्तार किया और अशोक के बारे में पूछताछ की और इसी कड़ी को मुख्यधारा मीडिया ने मसाला लगा कर सबके सामने पेश किया कि लड़की ने रिवोल्वर के दम पर प्रेमी को अगवा किया जिसके बाद उसको पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया।

जबकि हकीकत यह थी कि वर्षा को पुलिस ने जबरन परेशान किया। जबकि अशोक को उसके ही घर में सोता पाया गया।

अब अशोक जेल में है और वर्षा उसका इंतज़ार कर रही है। देखते हैं इन प्रेमियों को अब आगे कौनसे मुश्किल हालातों का सामना करना पड़ेगा।

रिपोर्टर-कविता और गीता 

02/06/2017 को प्रकाशित