वद्युतीकरण के बाद भी बिजली नहीं

3. kasba katehri EDITED2जला फैजाबाद, अंबेडकर नगर, लखनऊ। उत्तर प्रदेष के इन जिलों के ग्रामीण इलाकों में विद्युतीकरण हो चुका है, लेकिन बिजली नहीं पहुंची है। अधिकतर गांवों में सालों पहले खम्भे गाड़े जा चुके हैं। लेकिन बिजली कनेक्शन चालू नहीं किया गया। कई गांवों में तो बिना कनेक्शन बिजली बिल भी आने शुरू हैं।
फैजाबाद के तारून ब्लाक के कंुवरपुर गांव की सड़क के किनारे चार साल पहले ही बिजली के खम्भे गाड़ दिए गए थे। कुछ महीनों बाद इसमें तार भी डाल दिए गए। लेकिन किसी के घर भी बिजली नहीं है। पर लोगों के घर बिजली के बिल पहुंच रहे हैं। कुंवरपुर गांव के पुजारी और षिवचरन के नाम पांच-पांच हजार का बिजली बिल भी आ गया है। इसी ब्लाक के गांव हुसैन पुर के केवटहिया, नटहिया और ऊंचगांव में भी खम्भे ही लगे हैं, बिजली नहीं। जे.ई. जे.पी. गुप्ता के अनुसार गांव के लोगों को मिलकर इस बारे में विभाग में अपनी षिकायत दर्ज करानी चाहिए।
कटेहरी ब्लाक का भी ऐसा ही हाल है। बेनीपुर, पीठापुर, नरायन पुर, अहिरौली, अर्जुनपुर में हालांकि बिजली पहुंच गई है। लेकिन आती बहुत कम है। बोर्ड की परीक्षा दे रहे इंद्रजीत, सुधीर, लालजी, सुरेष ने बताया कि जब खम्भे लगे थे तो उम्मीद बंधी थी कि शायद अब हमें लालटेन और दिए में आंखें नहीं फोड़नी पड़ेंगी। लखनऊ के गोषाईगंज ब्लाक के कुरियानी, हरदोइया, सदरपुर करौरा और हसनगंज ब्लाक का मजरा सत्तीदीन खेड़ा में भी विद्युतीकरण किया जा चुका है लेकिन बिजली नहीं पहुंची है। यहां के वारेन्द्र यादव ने बताया कि अब तो खम्भे भी निकाल लिये गये हैं। प्रधान रज्जनलाल ने बताया उप जिला अधिकारी को लिखित में षिकायत दे दी गई है। यहां के एस.एस.ओ. गोपाल पाण्डेय ने बताया कि नई सूची बन रही है जब उस गांव के लिए बजट आ जाएगा तो बिजली लग जाएगी।