लेखपाल के ऊपर रुपिया लें का आरोप

jati pramanpatra khaiparशहर बांदा, मोहल्ला खाईपार अउर मर्दननाका अउर महुआ ब्लाक का गांव मुरवां। 4 अगस्त का बांदा तहसील दिवस मा लगभग एक सैकड़ा मड़ई आय जाति प्रमाण पत्र बनवावैं का लइके हंगामा करिन। मड़ई लेखपाल के ऊपर प्रमाण बनवावैं मा रुपिया लें का आरोप लगाइन तौ कुछ लोग जाति बदल के जाति प्रमाण पत्र बनावैं के शिइत करिन।

खाईपार के उर्मिला, रागिनी अउर अजय का कहब है कि डेढ सौ हिन्दू समुदाय के खटिक जाति के आहिन, पै लेखपाल मुसलमान समुदाय के खटिक जाति का जाति प्रमाण पत्र बनवावैं के बात करत है। इनतान मा हमार जाति प्रमाण पत्र नहीं बन पावत आय। एक महीना से बराबर भाग दउड़ करत आहिन।

यहिनतान मर्दननाका के खुश्बू,परवीन अउर निशां कहत हैं कि हमार या साल बी.ए. फाइनल है। वजीफा के फार्म भरैं खातिर आय जाति प्रमाण पत्र के जरूरत है। एक प्रमाण पत्र बनावैं मा लेखपाल फार्म के कागजात तैयार करैं के नाम मा पांच सौ से बारह सौ तक रुपिया लेत है।

मर्दननाका अउर खाईपार लेखपाल धर्मराज का कहब है कि एक महीना से बच्चन का एड़मीशन चलत है। प्रमाण पत्र न बन पावैं के शिकाइत मंगल दिवस मा आई है तौ जांच कइके उनके सही जाति पता लगाके प्रमाण पत्र बनवाये जइहैं। प्रमाण पत्र मा रुपिया लें का आरोप झूठा है।

एस.डी.एम. का कहब है कि लेखपाल के ऊपर आये आरोप के जांच कीन जई। मामला सही पावैं मा लेखपाल के ऊपर कारवाही कीन जा सकत है।

मुरवां गांव का दिलीप आपन बहिनी रोषनी के आय प्रमाण बनवावैं खातिर लेखपाल के चक्कर लगावत है। लेखपाल भैंरो प्रसाद वहिके बात का अनसुनी कइके भगा देत है।
लेखपाल भैरों प्रसाद कहत है कि जबै फारम आनलाइन होइके मोरे पास अइहैं तबै मैं फारम मा रिपोर्ट लगइहौं। मड़ई भड़भड़ मचाये है तौ न आपन काम करैं न हमैं करैं दें।