लव की “एक्स्ट्रा क्लास”

images wwखबर लहरिया अपने युवा पाठकों के लिए लाया है एक खास तोहफा! जी हाँ, हमारे सभी युवा साथियों के दिल की बात सुनने के लिए हम उन्हें एक दोस्त ‘लव-गुरु’ दे रहे हैं। जिससे आप अपने प्यार की, दोस्त की, सपनों की और अपने मन की बात बेहिचक कर सकते हैं और इसके लिए आपको लिखने हैं अपने सवाल। जिनके जवाब देगी ‘लव-गुरु’। तो आइये शुरुआत करते हैं…
आज कल हर रिश्ता बड़ा अस्थाई हो गया है। यहां कोई किसी का इंतजार नहीं करता। सोचिए, आपने कॉलेज में एडमीशन लिया और आपके दिल को कोई लड़की/लड़का पसंद आ गया पर आपने सोचा कि चलो पहले एक महीने उसको देख लेते हैं फिर कुछ बोलेंगे और इस तरह जब आप एक महीने बाद इस तर्क पर पहुंचते हैं कि वह लड़की/लड़का आपके लिए ही है तब तक वह लड़की/लड़का किसी और के साथ प्रेम गीत गाता मिल जाएगा और आपकी हो जाएगी गुगली तो देर न करें जो अच्छा लगे, उसे बोल दें। तोलने के लिए सारी ज़िन्दगी पड़ी है दोस्तों।
बाँदा से सुप्रिया ने हमें खत लिख कर पूछा है कि “मेरे घर के सामने एक लड़का रहता है जो मुझे बहुत अच्छा लगता है, क्या मुझे उससे प्यार हो गया है?”
लव-गुरु- प्यारी सुप्रिया, अच्छे तो बहुत लोग लगते हैं लेकिन क्या सबसे प्यार हो पाता है? नहीं न! वैसे ही अगर कोई अच्छा लगे, वो बात अलग होती है और किसी से प्यार होना अलग। वो लड़का तुम्हें अच्छा लगता है अभी, अगर तुम उससे बात करो, मिलो और उसे जान पाओ, तब तुम कह सकती हो कि वो मुझे अच्छा लगता है और मैं उससे प्यार करती हूँ। समझी सुप्रिया रानी, वो अच्छा लगता है तो उससे बात करो और आगे की बात मुझे बताना। तब तक के लिए शुभकामनाएं।
अब आपकी बारी…. तो क्या है आपका सवाल??