स्वच्छता अभियान या एक मजाक? ललितपुर और झांसी से चंद ज़मीनी तस्वीरें

जिला झांसी, जिला ललितपुर स्वच्छ भारत एक कदम स्वच्छता की ओर जो अभियान शहरन और गांव में जा योजना के तहत घर में शौचालय तो बनाबाये जा रए। लेकिन इन शौचालय से निकरबे वाले पानी की व्यवस्था अबे तक नइ भई। जी से गंदो पानी सड़क को तालाब बना रओ।जिला झांसी, जिला ललितपुर स्वच्छ भारत एक कदम स्वच्छता की ओर जो अभियान शहरन और गांव में जा योजना के तहत घर में शौचालय तो बनाबाये जा रए। लेकिन इन शौचालय से निकरबे वाले पानी की व्यवस्था अबे तक नइ भई। जी से गंदो पानी सड़क को तालाब बना रओ। ललितपुर के सतवासा गांव में केऊ महिना से नालियन से निकरबे वालो पानी आदमियन के घरन के सामने भरो हे। कुवर बाई ने बताई के केऊ तो गाड़ी वाले गिर गिर परत बूढ़े आदमी भी गिर परत। भागचन्द्र ने बताई के बच्चा बीमार हो जात गंदगी के मारे मच्छर काटत।शिव प्रसाद प्रधान ने बताई के जो अधूरी नाली हे हमाई कार्य योजना बन जेहे और मटेरियल आ जेहे सोई हम बनाबा देहे। झांसी जिला के खैलार गांव में नाली बनबाबे को काम तो करो गओ लेकिन पूरे रुपइया न मिलबे पे गांव की आधी नाली बनपाई अब नालियन को पानी सड़क पे हे और गांव के आदमियन को बोहतई परेशानी हो रई। कदीर ने बताई आठ घर को पानी इतेइ इकठ्ठो हो रओ। नाली वाले सुनत ही नइया कत जाओ कर आओ हमाई शिकायत। हाफिज मोहम्मद जावेद ने बताई के केऊ प्रकार की बीमारी फेलती बच्चन में गंदो पानी भरो रत तो निकर भी नइ पात। खबर लहरिया की रिपोर्टर ने प्रधान से पूछी नाली के बारे में तो उन ने कछू भी बता बे से मना कर दई

रिपोर्टर- सुषमा और सफीना

Published on Jul 17, 2017