ललितपुर जिले के बिरधा गाँव में जच्चा-बच्चा की ज़िन्दगी के साथ हो रहा है खिलवाड़

जिला ललितपुर, ब्लाक बिरधा, गांव बिरधा में एक सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र है जहां न सफाई होती है न खानें की कोई व्यवस्था है। मरीजों के लिए बेड है न चादर है। यहां तक की अस्पताल में डिलेवरी के लिए कोई महिला डाक्टर है। यहां किसी भी तरह की कोई सुविधा नहीं है।
छोटी यादव ने बताया कि मेरी डिलेवरी चार बजे हुई थी ग्यारह बारह बजे तक हम जमीन पर ही पड़े थे। हमारी कोई व्यवस्था नहीं हुई थी। चन्द्रकान्त का कहना है कि यहां गन्दगी बहुत है सब जगह गंदे कपड़े पड़े रहते है जिससे बहुत बदबू आती है।रोहिती राजीव का कहना है कि डिलेवरी के समय जब हमने सौ रूपये दिए है तब इंजेक्शन लगाया गया है। जब बच्चे का नारा काटा है तब भी पचास रूपये लिए है और जिस दिन यहां से जायेगे तब दो तीन सौ रूपये और लेंगे। अखिलेश कुमारी का कहना है कि दो दिन से दूध बिस्कुट बस मिला है खाना नहीं मिला है।
सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के प्रभारी चिकित्साधिकारी डाक्टर श्याम सिंह का कहना है कि सीएमओ ने जल्द ही महिला डाक्टर की भर्ती के लिए कहा है। मरीजों को रोज खाना दिया जाता हैं।

रिपोर्टर- राजकुमारी

Published on Jan 4, 2018