ललितपुर जिले के छपरट गाँव में घुसा बाढ़ का पानी, लोगों के घर हुए तबाह

जिला ललितपुर, गांव छपरट इते बाढ़ आबे के मारे आदमी भये बे घर और बरबाद। अब इते न तो कोऊ नो रेबे घर बचे न खाबे पीबे के लाने कछू सामान। के जी से आदमी अपने मोड़ी मोड़ा पाल सके।
कुसुम ने बताई के बाढ के मारे हमाओ पूरो घर गिर परो न कछु सामान बचो जो कछु हतो सो दब गओ और बह गओ बाढ़ में जान तो बड़ी मुश्किल में बचा पाई एक दम से आयी बाढ सो कोऊ कितऊ नई भग पाओ सब ठाडे रह गये। न अब नाज पानी बचो कछु न घर गृहस्थी बची कछु।
प्यारेलाल ने बताई के हमाओ कम से कम दो तीन लाख को नुकसान हो गओ चार बोरा पिसी और सबरे पीतर के बर्तन और पूरे स्टील के बर्तन बह गये और कछु दब गये। हम सो नीम को पेड़ पकरे खड़े रहे और अपने मोड़ी मोड़न को खड़ो करे रए। कितऊ भगई नई पाय एक दम से आ गयी बाढ़ और सबके घर गिर परे सबको सामान दब गओ तो सो तीन दिना तो आदमी भूखे बने रए। दुकान पे से जितेक जो कछु रुपईया हते सो नमकीन बिस्कुट ले ले के खात रए।
छन्नोलाल ने बताई के हमाओ एक घर गिर परो और दूसरो गिरबे बालो हे चरचरा बे लगो।
एक दम आई बाढ़ तो एकायक वन विभाग से आयी सो पुल टूट गओ।
प्रधान मोहनलाल ने बताई के जो घर गिरे हे सो उतने लेखपाल लिख ले गये।
अब धीरे धीरे करवाहे काय के बरसात के मारे अबे कोनऊ काम नई लग पा रओ अब जब बरसात निकर जाबे बाके बाद काम लगबाहे अबे कछु करई नई पा रए मोका ही नई मिल पा रओ करबाबे के लाने।
फिर बाद में जब लगबा हे सो सीमेंट बिछ्बा देहे गांव में और सब सुविधा करबाहे।

रिपोर्टर- सुषमा  

 

28/08/2016 को प्रकाशित