ललितपुर जिले के कुम्हैडी गांव में लोगों के पास छत तक नहीं है आवास के इन्तजार में नम हैं आँखें

जीवन जीने के लिए रोटी,कपड़ा और मकान ये चीजें सबसे जरूरी होती हैं। लेकिन जिला ललितपुर, ब्लाक महरौनी, गांव कुम्हैड़ी के खिरिया मुहल्ला के लोगों को आवास का इंतजार हैं। यहां के लोग घरों में पन्नी डालकर रह रहें हैं। बरसात में पूरे घर में पानी टपकता है।
सरीफन का कहना है कि बड़े लोगों को आवास मिले हैं, हम जैसे गरीबों को आवास नहीं मिले हैं। चाऊदे का कहना है कि घर में पन्नी डालकर रहते है। खाना बनानें तक के लिए जगह नहीं है। तेज कुमारी ने बताया कि प्रधान से आवास के लिए कहते है तो वह कहता है कि तुम्हारे दो वोट के कारण हम हार गये है। लीला का कहना है कि लड़की की शादी के लिए मेहमान आये थे तो घर देखकर शादी के लिए मना कर दिया है। खानें के लिए नहीं है तो घर कैसे बनाएं।
रोजगार सेवक रूपचन्द्र का कहना है कि हमारे गांव में प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत अनुसूचित जाति के लिए बाइस आवास आये हैं, बाकी लोगों के नाम नई लिस्ट में जोड़े गये हैं। बीडीओ अजय कुमार शर्मा का कहना है कि यहां आठ सौ चौहत्तर आवास आये हैं। गरीब लोगों के लिए यह योजना है।

रिपोर्टर- सुषमा

Published on Feb 6, 2018