ललितपुर के महरौनी ब्लॉक के नैनवारा गाँव में स्कूल के रसोइये के चयन पर सवाल

जिला ललितपुर, ब्लाक महरौनी, गाँव नैनवारा प्राथमिक विद्यालय नैनवारा में एक महीना से चारऊ रसोइयन को प्रधान ने हटा दओ। प्रधान को कैबो हे के जो महिला पात्र नही हें जो पात्र महिलाए हें उने ही हम रसोइया बना हें।
विमला देवी ने बताई के हमें सात साल हो गयी स्कूल कि रोटी बनात बनात और हम विधवा हे जब से हम काम कर रए और हमाय चार मोड़ी मोड़ा हे छोटे छोटे। अब प्रधान कह रए के हम अपने मतलब के आदमी लगा हें तुमने कुन हमे वोट दए जिनने दए हम तो उने बना हें।
प्रेमा बाई ने बताई के हम से कह रए के तुम पात्र नईया जा से तुमे नई लगाने अब।
सीता ने बताई के प्रधान कह रए के तुमने कुन हमे वोट दए और मास्टरनी कह रई के तुम हट जाओ अब हम दूसरी लगा हे।
भजन ने बताई के हम विधवा हे और हमाई दो मोड़ी ब्याय के लाने हें। और सब कत के विधवा को काय हटओ। लेकिन प्रधान कह रए वृन्दावन,मनखुसी,के इनके बाप कि हें का अब का तुमई तुमई करत रेहो दूसरन को भी तो मौका दो। और उनको बना दओ राधा रानी को अब जिनके गाड़ी हे टेक्टर हे सब कछु।
संगीता सोनी प्रधानाध्यापक ने बताई के एक तो सीता हे जिनके पति सरकारी मास्टर हें जा से उने हटा दओ।
एडवोकेट राजीव दुबे ने बताई के जो पात्र हें उने बनाओ जारओ और जो पात्र नईया उने हटाओ जा रओ। जो खाना दओ जा रओ बा में कोनऊ कमी नई होने चाहिए और अच्छे से बनाओ जाबे अच्छे से रख रखाव भी करे। और हमाय जितने भी प्रधान हें हम उने प्रेरित करे के जो पात्र हे उने रखबे।

रिपोर्टर- सुषमा 

14/09/2016 को प्रकाशित

मिड डे मील बनाने वाले रसोइयों के चयन का क्या है आधार?
ललितपुर के महरौनी ब्लॉक के नैनवारा गाँव में उठ रहा यह सवाल