लड़की के पालन, पोषण खातिर मुआवजा के मांग

nasbandi ke baad bachchaजिला बांदा, ब्लाक नरैनी, ग्राम पंचायत महुआ, मजरा कबरा पुरवा। हेंया धर्मराज के औरत पूनम का 17 फरवरी 2012 मा अतर्रा सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र मा नसबंदी भा रहैं। अब पूनम के 2 नवम्बर 2014 का लड़की होइ गे है। यहिसे धर्मराज लड़की के पालन पोषण खातिर मुआवजा के मांग करत है।
पूनम बतातव है कि मोरे दुई बच्चा हंै। यहिसे मैं नसबंदी करवा लीन रहौं। काहे से महंगाई मा यतने बच्चन का पालन पोषण करब अउर पढ़ावब लिखावब मुश्किल है, पै नसबंदी के दुई साल बाद अब लड़की होइगे हैं। यहिसे लड़की का लइके तहसील दिवस मा दरखास दीने हौं। हमका या लड़की के भरण पोषण अउर पढ़ाई लिखाई खातिर मुआवजा दीन जाये।
सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र अतर्रा के प्रभारी चिकित्सा अधिकारी सुनील श्रीवास्तव का कहब है कि पूनम हेंया नहीं आई आय। नसबंदी मा हमेशा गलती होई जात हैं। वा सी.एम.ओ. के पास जाके नसबंदी मुआवजा का फारम भर सकत है।