लखनऊ में दलित किसान का उंच जाती पर हिंसा का आरोप

साभार: पिक्साबे

फसल काटने से इनकार करने पर लोगों के एक समूह ने कथित तौर पर बदायूं के एक दलित पर हमला किया और पेशाब पीने के लिए मजबूर किया।
एक अंग्रेजी अख़बार की खबर के अनुसार, पीड़ित ने बताया कि हमलावरों ने उसे पेड़ से बांधा और उसकी मूंछ मुढ़ा दी।एसएसपी अशोक कुमार ने कहा है कि मामला दर्ज कर लिया गया है और जांच चल रही है। यह वारदात बदायूं के थाना हजरतपुर इलाके के आजमपुर गांव की है। पुलिस अधिकारी के अनुसार, दो दिन पहले दलित किसान को पीटे जाने की सूचना 100 नंबर पर मिली थी।
पुलिस अधिकारी ने बताया कि शिकायत मिलने पर डायल 100 वाले सिपाही मौके पर गए थे और कार्रवाई के बाद लौट आए थे। लेकिन घंटे भर के अंदर फिर से 100 नंबर पर फोन आया और दलित किसान को फिर से पीटे जाने की सूचना दी गई। इसके बाद पीड़ित को थाने आया गया था।
पुलिस के अनुसार, पीड़ित की शिकायत के आधार पर मामला दर्ज कर कार्रवाई की जा रही है और दोषी पाए जाने पर आरोपियों को बख्शा नहीं जाएगा। पुलिस में दर्ज शिकायत के मुताबिक गांव के ही विजय सिंह, पिंकू, विक्रम सिंह और सोमपाल ने दलित किसान के साथ बेरहमी से मारपीट की और पेड़ से बांधकर जबरन उसकी मूंछ मुढ़ा दी। पीड़ित ने आरोप लगाया है कि दबंगों ने जूते में शराब भरकर उसे पिलाई।
पीड़ित के मुताबिक जब वह अपने खेत पर गेहूं की फसल काट रहा था, तब गांव के कुछ दबंगों ने उनके खेत की फसल काटने के लिए उस पर दबाव बनाया और उसके साथ मारपीट करने लगे। यही नहीं, पहले उसे खेत में ही पीटा, फिर गांव में ले जाकर एक पेड़ से बांधकर उसके ऊपर अत्याचार किया।