रोजगार करो और मजदूरी ही न मिले, कैसे जलेगा घरों में चूल्हा, चित्रकूट जिले की कहानी

मनरेगा मा दिनभर करै के बादौ जिला चित्रकूट, ब्लाक खटवारा के मजरा मलवारा के मड़इन के घरन मा चूल्हा नहीं जलत आय। हिंया प्रशासन के लापरवाही के कारन मड़इन का साल भर से मजदूरी नहीं मिली आय। लल्लू कुमार पिछले साल काम करे रहेंव। तीस गढ़ाही खोदे का काम करै रहेंव जेहिमा पच्चीस सौ रुपिया बस मिला हवै। सुनीता देवी बताइस कि एक महीना तक गढ़ाही खोदे का काम करे रहिहौं पै आज तक एकौ रुपिया नहीं मिला आय। हजार दुई हजार का कर्जा लेइत हवैं तौ ईटा गारा कइके कर्जा वापस करित हवैं।
उदयभान बताइस कि बारह गढ़ाही खोदें रहेंव जेहिमा एकौ रुपिया नहीं मिला आय। बच्चन के पढ़ाई लिखाई अउर तेल साबुन सबै मा रुपिया लागत हवै तौ जउन खेत मा मजूरी कइके अनाज लइत हवै तौ वहिका बेचै का पड़त हवै। सचिव सुरेन्द्र चन्द्र का कहब हवै कि हम मास्टररोल भर देइत हवै पै कम्पूटर आपरेटर मास्टररोल के पूर लिस्ट नहीं देत आय।यहै कारन सबै मड़इन के मजदूरी नहीं मिली आय।
रिपोर्टर-सहोद्रा 

Uploaded on Dec 12, 2017