रेल का बदली रास्ता तौ समस्या बढ़ जई

imagesजिला चित्रकूट, ब्लाक मानिकपुर। हिंया से चलैं वाली रीवांचल एक्सप्रेस 1 सितम्बर 2014 से बांदा से होइ के दिल्ली जई। यहिके पहिले वा रेलगाड़ी रीवां से चल के मानिकपुर से इलाहाबाद होइ के दिल्ली जात रहै। यहै से हजारन यात्रिन का चिंता बनी हवै। यहिके खातिर मड़ई 14 अगस्त 2014 का स्टेशन मास्टर जवाहर लाल का लिखित दरखास दिहिन।
मानिकपुर रेलवे स्टेशन मास्टर जवाहर लाल कहिस कि यहिके खातिर मड़ई लिखित दरखास दिहिन हवैं। उनके दरखास मध्य प्रदेश के जबलपुर जिला के डी. आर. एम. का भेज दीन गे हवै। हुंवा से कुछौ होइ सकत हवै।
मानिकपुर ब्लाक के गोपी, तुलसी अउर सूरज कहिन कि उनका कर्वी बांदा अउर दिल्ली जाये वाले यात्रिन का सहूलियत तौ मिल जई, पै पहिले वाले रुट से जाये वाले बहुतै लोगन के रोजी रोटी मारी जई। काहे से कि बहुतै व्यापारी सतना, रीवा, इलाहबाद तक खोया दूध बचैं जात हवैं।मड़ई हिंया बाजार करैं जात भी हवैं।