राह देखते-देखते चल बसल

w
इंतजार करईत रह गेलथिन

जिला सीतामढ़ी,प्रखण्ड रीगा, पंचायत कुसमारी,गांव पंछोर। उहां वार्ड नम्बर चार में सावित्री देवी लगभग पन्द्रह साल से विधवा छथिन। लेकिन उनका पेन्सन न मिलई छई। जबकि उनकर उम्र लगभग साठ साल से उपर होतई।
सावित्री देवी कहलथिन कि हमरा पति के मरला बहुत दिन हो गेल। अब हमरा मरे के समय भी आ गेलई। लेकिन अभी ले पेन्सन न मिलइय हमरा तीनगो बेटा हई। ओहे सब मिल के देख भाल करई छई। अगर पेन्सन मिलत त कुछो त सहयोग होतई। पुतोह मंजु देवी कहलथिन कि हमेशा तबियत खराब भेल त इलाज चलइत रहई छई। हम सब गरीब आदमी छी मजदुरी क केही परिवार चलवइले। इनका पेन्सन मिलतीयइ त कुछों त सहयोग होइत। केतना बेर नाम लिखा के जाई छई। लेकिन नाम जुठ के न अवई छई । मुखिया मनोरमा प्रसाद के बेटा अंशु प्रसाद कहलथिन कि आवेदन जमा कयेले होइथिन त आर.टी.पी.एस. काउण्टर पर जामा कयेले होइथिन। लेकिन सावित्री देवी दु दिन  पहिले मर गेलथिन । इ खबर एक सप्ताह पहिले खबर लहरिया रिपोटर गांव से लायल रहथिन ।