राषन कार्ड होय के बाद भी नहीं मिलत गल्ला

padmai ganva rasan kardजिला बांदा, ब्लाक नरैनी, गांव पड़मई। हेंया के लोगन का आरोप है कि दुई कोटेदारन के बीच बने राषन कार्ड मा गल्ला कउनौ का सात पसेरी के जघा दस किलो ही दीन जात है, तौ कउनौ का एक भी नहीं दीन जात आय। यहिसे उंई लोग 25 जनवरी का नरैनी तहसील मा एस.डीएम. का दरखास दें आय रहै ।
गांव के रामदयाल, भरोसा, राजाभइया सखिया, चन्दा, विद्या, सवित्री अउर सोहनिया का कहब है कि हमरे सब के पास राशन कार्ड बना है, पै कोटेदार कतौ दुई महीना मा एक दरकी गल्ला बांटत है। वहिमा भी पूरा नहीं देत आय। कतौ सात पसेरी के जघा दुई पसेरी गल्ला देत है अउर कुछ लोगन का तौ दिहिस ही निहाय। जब कि हर महीना का गल्ला राशन कार्ड मा बंटै खातिर उठ के गांव जात है, पै कोटेदार आपन मनमानी के चलत पूरा गल्ला ब्लेक मा बेंच  लेत है अउर गांव के गरीब जनता परेशान होत रहत है।
यहिसे अब हम लोग उनके खिलाफ नरैनी तहसील मा एस.डीएम. का दरखास दें आय रहन ,पै एस.डीएम अउर तहसीलदार कउनौ निहाय।
कोटेदार राजेन्द्र प्रसाद का कहब है कि वा हर महीना गल्ला बांटत है गांव दारी मा लोग वहिका परेशान करत हैं। 25 जनवरी का उंई तहसील मा दरखास दें गे रहैं। मैं 26 जनवरी से उंई नये राशन कार्डन मा भी गल्ला बांटैं का काम शुरू का दीेनें हौं।