राशन के बदले सुनील को मिली मौत, जानिए क्यों? महोबा जिले के खरका गाँव की कहानी

घर में अन्न का दाना खत्म हो जाने पर 8 फरवरी को कोटेदार की दुकान पर राशन लेने गये, जिला महोबा, ब्लाक कबरई, गांव खरका के अट्ठारह वर्षीय सुनील को कोटे से राशन नहीं मिला तो मायूस होकर सुनील ने मिट्टी का तेल छिड़क कर आग लगा ली जिससे उसकी मौत हो गई। परिवार की आर्थिक स्थिति ठीक न होने के कारण सुनील ईट- भट्टा में काम करके गुजारा करता था।
सुनील की माँ कौशल्या ने बताया कि मैं खेत चली गई थी तो पता नहीं कैसे आग लगाई। हमें पिछले महीने का राशन मिला था, इस महीने का नहीं मिला है।
पड़ोसी शोभा का कहना है कि उसकी माँ खेत पर गई थी किसी को पता नहीं कि लड़ाई हुई या क्या हुआ। सुनील नशा किये था पता नहीं कैसे आग लगा ली। राजकुमार का कहना है कि कोटेदार गरीबों को राशन नहीं देता है, भगा देता है कहता है कि पर्ची लेकर आओ। जिनकी पहुंच है उनको राशन देता हैं। मंझिया  का कहना है कि हमारा राशन बना है लेकिन कोटेदार कभी गल्ला देता है, कभी नहीं देता है।
कोटेदार निशा का कहना है कि सुनील ने शराब के नशे में जान दी है और लोग हमें फंसाना चाहते है। जिनका नाम ऊपर से कटा है उनको राशन नहीं मिलता है, जिन लोगों की पर्ची बनी है उनको राशन देते हैं।

रिपोर्टर- सुनीता प्रजापति

Published on Feb 12, 2018