रामपुर में पानी की समस्या, क्या ये चुनावी मुद्दा नहीं? #UPElection2017 #UPpolls2017

जिला चित्रकूट, ब्लाक मानिकपुर, गांव रामपुर

रहिमन पानी राखिये, बिन पानी सब सून पानी गये न उबरे मोती मानस चून।

रहीम का या दोहा रामपुर गांव के लाने सही हवै। काहे से या गांव मा पानी के बहुतै समस्या हवै। 15 सौ मतदाता के बीच लगभग 45 हैण्डपम्प लाग हवै वहिमा से से दुइ हैण्डपम्प बस चलत हवै। पथरीली जमीन होय के कारण 3 सौ फुट बोरिंग करै के बाद भी हैण्डपम्प से पानी नहीं निकलत आय। 23 फरवरी का चुनाव है पै अबै तक या गांव मा एकौ उम्मीदवार गांव के समस्या जाने नहीं आय आहीं।
रामजस समेत बीस मड़इन का कहब हवै कि हमार गांव मा येत्ता हैण्डपम्प लाग हवै पै वहिमा से दुइ हैण्डपम्प बस चलत हवै यहै कारन हमें कत्तौ बोर से तौ कत्तौ बंधा से पानी ले जाए का पड़त हवै। बोर हिंया से तीन किलोमीटर दूरी हवै अउर बंधा 5 किलोमीटर दूरी हवै। यहै कारन बैलगाड़ी से मड़ई लावत हवै। अब सरकार चाहे तौ हमार पानी के समस्या खतम कइ सकत हवै। बाहर से पानी भेंजे नहीं तौ पानी के टंकी बनवा दें पानी के कमी के कारन 75 प्रतिशत काम धन्धा मा भी फर्क आवत हवै। जेहिसे मड़इन का दूसर जघा काम खातिर जायें का पड़त हवै।
पानी न होय से घर के काम करै मा भी परेशानी होत है मजबूरी मा मड़इन तालाब का गंदा पानी पिये का पड़त हवै। तालाब न होय तौ मड़ई अउर जानवर पियासे मर जायें। कउनौ विधायक से पानी के समस्या के बारे मा कहित हन तौ उंई कहत हवै अबै हमार सरकार नहीं बनी आय।
प्रधान श्री कृष्णा का कहब हवै कि सरकार या गांव मा बाहर से पानी लाये के व्यवस्था करै तौ ठीक है। गांव के एक दुइ मड़ई बोर कराइन हवै वा बोर सफल नही आय। गांव के गरीब मड़ई रोजगार खातिर बाहर जात हवै। गांव के मड़ई उम्मीदवारन का सबक सिखावै का मन बना लिहिन हवै। पानी अउर रोजगार जइसे समस्या खतम करै का कहिन हवैं।

रिपोर्ट- खबर लहरिया ब्यूरो

Published on Feb 21, 2017