राज्य में औरतों की सुरक्षा पर बड़ा सवाल

जिला बदायूं। 27 मई को हुए सामूहिक बलात्कार मामले में पुलिस ने पांच लोगों को गिरफ्तार कर लिया है। इनमें तीन भाई पप्पू, अवधेश और उरवेश यादव को 1 जून को पकड़ा गया और कुछ दिन बाद दो पुलिस कांस्टेबल छत्रपाल यादव और सर्वेश यादव को इन भाइयों की मदद करने के लिए जेल भेजा गया है। तीनों भाइयों ने बलात्कार और हत्या के आरोप को स्वीकार लिया है।
दो बहनों के बलात्कार और हत्या मामले की अंतरराष्ट्रीय संस्थाओं ने कड़ी निंदा की है। ‘संयुक्त राष्ट्र’ नाम के दो सौ देशों के गुट के अध्यक्ष बैनकी मून ने भी तुरंत कार्यवाई की मांग की है। उधर राज्य में औरतों की सुरक्षा पर उटते सवालों पर मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि उत्तर प्रदेश अन्य राज्यों से इस मामले में अलग नहीं है।

सामने आया एक और मामला
जिला बरेली। 2 जून को बाइस साल की लड़की के बलात्कार और हत्या का मामला सामने आया। खबरों के अनुसार लड़की को तेज़ाब पिलाकर उसकी गला घोटकर हत्या कर दी गई थी। लड़की के चेहरे को भी बिगाड़ दिया गया था जिससे उसे पहचाना ना जा सके। अभी तक कोई गिरफ्तारी नहीं हुई है और मामले की जांच चल रही है।