राजापुर – एक अनोखी जगह

(फोटो साभार: आकांक्षा वार्षणे)
(फोटो साभार: आकांक्षा वार्षणे)

जि़ला चित्रकूट। राजापुर एक छोटी पर बड़ी ही अनोखी जगह है। आज की इस भागती हुई जि़न्दगी में आस पास के लोग इस जगह को भूल से गए हंै, सरकार भी अब इस जगह पर ज़्यादा ध्यान नहीं दे रही है।

ये जगह गोस्वामी तुलसीदास का जन्मस्थान माना जाता है और ये वही स्थान है जहां पर तुलसीदास ने रामचरितमानस लिखा था। तुलसीदास द्वारा भोजपत्र पर लिखा हुआ रामचरितमानस आज भी राजापुर के एक मंदिर में बड़ी ही हिफाज़त के साथ रखा गया है।

राजापुर में काफी स्थल ऐसे हैं जो लोगों को लुभाते हंै। जिनमें से एक है तुलसीदास स्मारक, जहां पर भगवान राम और उनकी जि़न्दगी के कुछ पलांे को मूर्तियों के ज़रिए दिखाया गया है। यहां पर एक तरह से भारतीय कला का प्रदर्शन किया गया है। राजापुर यमुना नदी के किनारे बसा हुआ है इसलिए यहां पर बड़ा ही सुन्दर यमुना घाट है, ऐसा भी माना जाता है कि इसी घाट पर तुलसीदास नहाने आया करते थे।