अवैध कब्ज़े में लखनऊ के 45 परिवार सामना कर रहे है बुलडोज़र का

लखनऊ रेलवे स्टेशन के तकिया फ़लाश बाग इलाका मा रहै वाले पैतालिस परिवार का यहि जगह से हटावा जात बाय। सौ साल से हियां रहत यहि परिवार कै कब्ज़ा का अवैध कब्जा बतावा जात बाय। जेकरे चलते 19 अगस्त का हियां से हटावे कै कोशिस कीनगए रही।
आमना तकिया फलास बाग़ निवासी कै कहब बाय कि पूरा बुल्डोजर लइके तूरत अन्दर चला आये। अन्दर आवै के बाद हमरे सबके घर मा केहू नाय रहा सारा सामान कै नुकशान होइगा। धमकी दइके अलग जाथे की घर खाली करा। घर पै सिर्फ हम औरत लोग रहीथी। मर्द लोग सब काम पै चला जाथिन।
अमीरुन तकिया फलास बाग़ निवासी कै कहब बाय कि हमरे सब हियां सौ साल से रहत हई हमार पुरखा यहीं पैदा भा रहे। बार-बार यै सब आयके परेशान कराथे काहे कराथे आज तक नाय समझ पायन। हमरे सब वक्फ के जमीन पै हई। वक्फ कै किरायेदार हई।
लखनऊ विकास प्राधिकरण के नाम पै हुवत बाय कार्यवाही| इनके सबका हियां से 2003 अउर 2008 मा भी हटावे कै कोशिस कीन गए रही|
बिबन तकिया फलास बाग़ निवासी कै कहब बाय कि बुलडोजर चला दरवाजा खिड़की सब उखाड़ दीन गए। मकान बर्बाद कै दिहिन। वकरे बाद हमरे सब आपन मकान सही करवायन फिर इनके सब आउब शुरू कै दिहिन। जवन देखावाथिन सब फ्राड आय। सिर्फ मलबा ख़रीदे अहैं। वहि मलबा वहि बिल्डिंग से कउनौ तालुकात नाय बाय।
रियाजुद्दीन तकिया फलास बाग़ निवासी कै कहब बाय कि हमका धमकी दिहिन कहे लागे मकान खाली करा। पुलिस के साथ बुल्डोजर लाय के गिरवाय दिहिन।

रिपोर्टर-नसरीन  

30/08/2017 को प्रकाशित