रम्पुरिया के आदिवासियों के जीवन का एक दिन

रम्पुरिया गांव चित्रकूट जि़ले में मानिकपुर ब्लॉक का एक मजरा है। इस मजरे में 250 आदिवासी रहते हैं। लगभग पांच दशक पहले, कोल आदिवासियों ने रम्पुरिया की पथरीली ज़मीन में घर बसाया। यहां ना जल है, ना खेती के लिए ज़मीन। सिर्फ जंगल है। सूखा-ग्रस्त बुन्देलखण्ड में रम्पुरिया ऐसा एक मजरा है जिसे अभी तक मूल विकास की कोई सुविधा प्राप्त नहीं हुई है। यहां ना सड़क है, ना पानी, ना बिजली।
सड़क को देख लीजिए। रम्पुरिया पहुंचने के लिए पक्की सड़क नहीं बनी है, यहां कोई साधन भी नहीं है। गांव के स्कूल को ही देख लीजिए। स्कूल की दीवार टूट रही है और शौचालय नहीं है। रसोई घर खंडहर जैसे पड़ा है और पढ़ने के लिए बिजली नहीं है। रम्पुरिया में खेती का काम नहीं है। यहां की महिलाएं लकड़ी काट कर आधे दाम में बांदा, अत्तर्रा, और चित्रकूट की बाज़ारों में बेचती हैं।

IMG-20160124-WA0005 copy
किसे सुनायें अपनी समस्या, लकड़ी ढ़ोते-ढ़ोते जिंदगी बीती जा रही है। हमारे मजरे में पानी कब आएगा

रम्पुरिया इतना दूर है कि यहां तक प्रशासन पहुंच नहीं पाया है। किसी अधिकारी ने आज तक गांववालों के आवेदन पत्र का जवाब नहीं दिया है।

लेकिन रम्पुरिया की सबसे बड़ी समस्या है पानी। शिवकुमारी बताती हैं कि यहां पानी की कोई व्यवस्था नहीं है। हर रोज़ वह जंगल से होते हुए एक किलोमीटर दूर पानी लेने जाती हैं। गावंवाले झुण्ड में पानी लाने जाते है क्योंकि जंगल के जानवरों का डर हमेशा रहता है। पानी दिखने में काफी खराब है, दूध की तरह सफेद पानी में कीड़े-मकोड़े भी हैं।

पूनम पानी के लिए गड्ढ़े में घुसती है। लेकिन बूंद-बूंद पानी का घंटों तक इंतजार करना पड़ता है। पूनम के पैर सूज जाते हैं जिस कारण वह जंगल में लकड़ी काटने भी नहीं जा पाती है
पूनम पानी के लिए गड्ढ़े में घुसती है। लेकिन बूंद-बूंद पानी का घंटों तक इंतजार करना पड़ता है। पूनम के पैर सूज जाते हैं जिस कारण वह जंगल में लकड़ी काटने भी नहीं जा पाती है

शिवकुमारी अपने बर्तन में पानी भरती हैं और उसे कपड़े में छानती हैं। इसी पानी में वे कपड़े और बर्तन धोती हैं और इसे ही पीने के लिए इस्तेमाल करती हैं। रम्पुरिया में आज तक सिर्फ एक हैण्डपम्प लगा है, वह भी स्कूल के अंदर। लेकिन पिछले एक साल से वह हैण्डपम्प भी बंद पड़ा हुआ है।

पानी देखने में खराब है, दूध की तरह सफेद। रम्पुरिया के आदिवासी यहीं नहाते हैं, बर्तन साफ करते हैं और इसी गंदे पानी को पीते हैं
पानी देखने में खराब है, दूध की तरह सफेद। रम्पुरिया के आदिवासी यहीं नहाते हैं, बर्तन साफ करते हैं और इसी गंदे पानी को पीते हैं
मनुवा ने रम्पुरिया में 70 साल तो काट लिये लेकिन आज तक पानी की व्यवस्था नहीं देखी है। पता नहीं आने वाले पीढ़ी को भी पानी की सुविधा मिलेगी या नहीं
मनुवा ने रम्पुरिया में 70 साल तो काट लिये लेकिन आज तक पानी की व्यवस्था नहीं देखी है। पता नहीं आने वाले पीढ़ी को भी पानी की सुविधा मिलेगी या नहीं
पानी भरने के लिए गांववालों को जंगलों से गुजरना पड़ता है। जानवरों का डर हमेशा रहता है। कभी-कभी रात को प्यासा ही सोना पड़ता हैं
पानी भरने के लिए गांववालों को जंगलों से गुजरना पड़ता है। जानवरों का डर हमेशा रहता है। कभी-कभी रात को प्यासा ही सोना पड़ता हैं
रम्पुरिया के निवासी रामसुख ने कहा कि .क्या बताएं हम कैसे जीते हैं बिना पानी के, क्या कभी हम गरीबों की पानी की प्यास बुझ पायेगी
रम्पुरिया के निवासी रामसुख ने कहा कि .क्या बताएं हम कैसे जीते हैं बिना पानी के, क्या कभी हम गरीबों की पानी की प्यास बुझ पायेगी