यौनिकता के आयाम – बदलते रंग, बदलती सोच